Breaking News

हिमाचल : युवक ने की खुदकुशी, पत्थर पर लिखा सुसाइड नोट- ‘काला जादू करने वालों को मारो’

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में एक युवक ने सुसाइड कर लिया. युवक ने सुसाइड से पहले पत्थर पर सुसाइड नोट लिखा. पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है.जानकारी के अनुसार, भटियात की चलामा पंचायत के भरमाल गांव में एक युवक ने पेड़ से फंदा लगाकर जान दे दी. युवक की पहचान राजीव कुमार गांव भरमाल के रूप में हुई है. शुक्रवार का यह मामला है. सुबह-सुबह युवक पशुओं के लिए चारा लेने द्रबड़ गांव के लिए निकला था, लेकिन दोपहर तक वापस नहीं लौटा. जब दोपहर तक वापस नहीं आया तो उसकी माता पता करने जंगल की ओर गई. इस दौरान उसने बेटे को एक पेड़ से फंदे से लटका हुआ पाया. उसने पंचायत प्रधान व ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी.

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में एक युवक ने सुसाइड कर लिया. युवक ने सुसाइड से पहले पत्थर पर सुसाइड नोट लिखा. पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है.

जानकारी के अनुसार, भटियात की चलामा पंचायत के भरमाल गांव में एक युवक ने पेड़ से फंदा लगाकर जान दे दी. युवक की पहचान राजीव कुमार गांव भरमाल के रूप में हुई है. शुक्रवार का यह मामला है. सुबह-सुबह युवक पशुओं के लिए चारा लेने द्रबड़ गांव के लिए निकला था, लेकिन दोपहर तक वापस नहीं लौटा. जब दोपहर तक वापस नहीं आया तो उसकी माता पता करने जंगल की ओर गई. इस दौरान उसने बेटे को एक पेड़ से फंदे से लटका हुआ पाया. उसने पंचायत प्रधान व ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी.

परिजनों ने नहीं जताया किसी पर शक सूचना मिलते ही पुलिस चौकी बकलोह की टीम प्रभारी एएसआई रमेश कुमार की अगुवाई में मौके पर पहुंची. परिजनों के बयान दर्ज किए गए हैं. परिजनों ने बेटे की मौत को लेकर किसी पर कोई शक जाहिर नहीं किया है. युवक के पिता वन विभाग के विश्राम गृह तुनुहट्टी में बतौर चौकीदार कार्यरत हैं.
घटनास्थल पर पत्थरों पर लिखा था

घटनास्थल पर जांच के दौरान पत्थरों पर कुछ लिखा हुआ मिला है. पत्थर पर लिखा था कि मम्मी-पापा मैं कुछ अच्छा करने की सोचता हूं, लेकिन कुछ चीजें मुझे मरने के लिए उकसाती हैं. एक पत्थर पर लिखा था कि काला जादू करने वालों को मारो. युवक ने ऐसा क्यों किया, इसके बारे में हर व्यक्ति हैरान है. 3 साल पहले इसी परिवार की एक बेटी की कॉलेज जाते समय वाहन दुर्घटना में मारी गई थी.

कुत्ते ने दिखाई वफादारी राजीव जब सुबह अपने पशुओं के लिए चारा लेने घर से निकला था, तब उसके साथ उसका पालतू कुत्ता भी था, लेकिन यह कुत्ता सुबह से दोपहर तक शव के पास बैठा रहा. इतना ही नहीं, यह पालतू कुत्ता देर शाम तक भी अपने मालिक के शव के आसपास भूखा-प्यासा बैठा रहा. युवक के शव को जब पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल ले जाया गया तो उसके बाद ही कुत्ता मायूस होकर घर के लिए गया.

No comments