Breaking News

गर्मियों में दही खाने के इन फायदों को जानकर चौंक जाएंगे आप

गर्मियों में दही खाने के इन फायदों को जानकर चौंक जाएंगे आप

हमारे देश में दही खाने की परंपरा बहुत पुरानी है। किसी भी काम को करने से पहले या फिर किसी शुभ काम के लिए घर से जाने से पहले बड़े बुजुर्ग दही खिलाते हैं। दरअसल, जब व्यक्ति किसी काम के लिए घर से बाहर निकलता है, तो उसे एनर्जी की जरुरत होती है, जो उसे दही से मिल जाती है। फिर यदि उसे दिन भर कुछ खाने को भी न मिले, तो भी वो दिनभर एनर्जेटिक बना रहेगा।

गर्मियों का मौसम आते ही हम ठंडी चीजों की तलाश में लग जाते हैं। बात खाने-पीने की करें तो गर्मियों में लोग दही खाना ज्यादा पसंद करते हैं। इसका एक वजय ये भी है कि दही आपके पेट को ठंड़क देती है। इसकी तासीर ठंडी होती है पर क्‍या आप जानते हैं कि खाने के बाद एक कटोरी खाने के बड़े फायदे हैं।

दही एक डेयरी प्रोडक्ट है, जिसे दूध के बैक्टीरियल किण्वन (Bacterial Fermentation) द्वारा बनाया जाता है। इसके लिए दूध में जिस बैक्टीरिया को मिलाकर दही बनाया जाता है, उसे “योगर्ट कल्चर” कहते हैं। यह दूध में नैचुरल शुगर के रूप में होता है। इस प्रोसेस में लैक्टिक एसिड का प्रोडक्शन होता है। ये एक ऐसा पदार्थ है, जो दूध के प्रोटीन को गाढ़ा बनाता है और दही बनता है।

स्किम्ड मिल्क से बने दही में फैट कम होता है। आजकल मार्केट में कई सारे ऐसे योगर्ट मौजूद हैं, जिनमें कई सारी चीजें मिला देते हैं, लेकिन फिर भी प्लेन दही के फायदे ज्यादा होते हैं।

पानी में घुलनशील दूध प्रोटीन को व्हे प्रोटीन कहा जाता है, जबकि अघुलनशील दूध प्रोटीन को कैसीन कहा जाता है। इसमें बहुत कम मात्रा में लैक्टोस होता है।

आम तौर पर ये माना जाता है कि अगर आप रोज एक कटोरी दही खाते हैं तो आप कभी बीमार नहीं होंगे। इसकी वजह है इसमें मौजूद प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन।
एसिडिटी से बचाव

अगर आपको खाना खाने के तुरंत बाद ही एसिडिटी होने लगती है तो खाने के तुरंत बाद, या उसके साथ ही एक कटोरी सादी दही खाएं। ये दही आपके शरीर का पीएच बैलेंस बनाए रखेगी।
हार्टबर्न और मतली रोकता है

अगर कभी आपके खाने की नली में खाना फंस जाए, तो आपको मतली या हार्टबर्न की समस्या होने लगती है। अगर आप खाने के बाद छाछ या दही लेते हैं तो आपको इस समस्या से मुक्ति मिल जाएगी। एक ग्लास छाछ में थोड़ा सा भुना ज़ीरा पाउडर डालकर भी पी सकते हैं।
हाजमा बढ़ाने में सहायक

आजकल की जीवनशैली में हाजमा लोगों का अक्सर गड़बढ़ रहता है। प्रोबायोटिक होने के कारण दही में विटामिन बी12 और माइक्रोऑर्गैनिज्म होते हैं, जो पेट में बैक्टीरिया बढ़ाते हैं। इससे बदहजमी नहीं होती।
दूध की बजाय दही खाएं

कुछ लोगों को दूध में मौजूद लैक्टोज के कारण हजम नहीं होता, ऐसे में वो दूध जैसे फायदे दही से ले सकते हैं। इससे आपको कैल्शियम और दूसरे विटामिन मिल जाएंगे, वो भी बिना लैक्टोज के।
दही कई तरीकों से खाया जा सकता है

आप खाने के साथ दही कई तरीकों से दही खा सकते हैं। आप दही में सब्जी मिलाकर रायता बना सकते हैं। नमक या चीनी मिलाकर दही खा सकते हैं, छाछ ले सकते हैं या सादा दही भी खाया जा सकता है।

No comments