Breaking News

ये पांच टिप्स आजमाते ही आपकी पत्नी 40 पार होने के बाद भी करेगी जमकर प्यार

ये पांच टिप्स आजमाते ही आपकी पत्नी 40 पार होने के बाद भी करेगी जमकर प्यार

मेरी पत्नी अब मुझसे प्यार नहीं करती। जब मैं ज्यादा कहता हूं तो वह तैयार तो हो जाती है, लेकिन बेमन से, पहले वाला प्यार न तो इजहार कर पाती है और न ही वह ऐसा कुछ करती है कि मुझे भी मजा आए। यह सवाल तकरीबन 40 पार कर चुके हर मर्द के जेहन में उमड़ता-घुमड़ता है लेकिन वह या तो कह नहीं पाता या कहता है तो वह कुछ कर नहीं पाता। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह भी एक प्रकार की बीमारी है।

जब पत्नी से इसकी वजह पूछी जाती है तो उनका कहना होता है कि काम पूरा हो जाने के बाद पति मुंह फेरकर सो जाते हैं और मुझे संतुष्टि नहीं मिलती। जब यह क्रिया बार-बार होती है तो स्त्री की कामेच्छा मर जाती है। पुरुष को याद रखना चाहिए कि अगर वह पत्नी को सहवास से संतुष्टि नहीं दे सकता तो उसे किसी और तरीके से संतुष्ट कर दे। आपकी समस्या के दूसरे कारण भी हो सकते हैं।

स्टडी ऑफ ब्रिटिश सेक्शुअल एटीट्यूड्स का कहना है कि जो महिलाएं एक पार्टनर के साथ रह रही हैं उनमें मर्दों के मुक़ाबले सेक्स में दोगुनी दिलचस्पी कम हुई है। इसमें पाया गया कि वक़्त के साथ महिलाओं और पुरुषों में सेक्स को लेकर उत्साह कम होता है जबकि महिलाएं अक्सर लंबी रिलेशनशिप में सेक्स को लेकर उदासीन हो जाती हैं। कुल मिलाकर ख़राब सेहत और भावनात्मक लगाव में कमी के कारण महिलाओं और पुरुषों में सेक्स के प्रति इच्छा कम हो रही है। इस सर्वे में क़रीब पांच हज़ार पुरुषों और 6,700 महिलाओं को शामिल किया गया था।

यह स्टडी बीजेएम जर्नल में छपी है। ब्रिटेन के शोधकर्ताओं का कहना है कि सेक्स की इच्छा में लगातार गिरावट चिंता की बात है और इस पर गंभीरता से विचार किया जाना चाहिए। इस समस्या को निपटाने में ड्रग के इस्तेमाल पर रोक लगाने की ज़रूरत है। इसका सबसे बड़ा कारण होता है कि आपको मनपसंद पार्टनर का न मिलना। यदि मनपसंद लड़के या लड़की से शादी होती है तो इस तरह से मसले कभी नहीं आते। कुछ मामलों में पुरुष कितनी भी मेहनत कर ले, स्त्री को रुचि पैदा नहीं होती।

इसके पीछे एक खास वजह यह होती है कि स्त्री की अनिच्छा होते हुए भी उसकी शादी कर दी जाती है। जिस पुरुष से उसकी शादी की जाती है, उसके प्रति उसे बिल्कुल आकर्षण नहीं होता। ऐसे मामलों में सुधार लाना मुश्किल है। इसका दूसरा कारण शारीरिक भी होता है और मानसिक भी। हालांकि शारीरिक कम और मानसिक ज्यादा होता है। कई बार हॉर्मोंस के असंतुलन (इसका लक्षण पीरियड्स की गड़बड़ी हो सकती है) की वजह से भी कामेच्छा में कमी हो सकती है, लेकिन इतनी नहीं, जितनी आप बता रहे हैं।

कई मामलों में महिला को डिप्रेशन होता है। इसके लक्षणों में प्रमुख हैं: नींद देर से आना और सुबह जल्दी उठ जाना, भूख न लगना, मन उदास रहना, बात करते-करते रोने लगना, किसी भी चीज में मन न लगना। ऐसे में ऐंटिडिप्रेसेंट दवाएं कारगर हो सकती हैं। ये दवाएं दो-तीन हफ्ते लेने के बाद ही असर दिखाती हैं। दूसरी मानसिक समस्या है पर्सनैलिटी डिस्ऑर्डर भी होता है। इसमें व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार होता है। उसकी कामेच्छा खत्म हो जाती है। इसमें किसी सायकायट्रिस्ट से मिलकर इलाज कराना चाहिए। यह ठीक हो जाता है, हालांकि इसमें लंबे समय तक दवाएं लेने और काउंसलिंग की जरूरत होती है।


लेकिन सबसे बड़ा अहम कारण होता है पति का सटीक यानी व्यावहारिक न होना। कई बार पति का कोई ऐसा बर्ताव होता है, जिसकी वजह से स्त्री सहवास से विमुख हो जाती है। मसलन तंबाकू की दुर्गंध, पसीने की बदबू आदि। जब आप पत्नी की पसंदीदा चीजें करेंगे तो जाहिर है, उन्हें आनंद आएगा और वह सेक्स में ज्यादा रुचि लेंगी।

अब आपको बताते हैं इसके इलाज के बारे में ये पांच टिप्स आपके बहुत काम आएंगे।

आपको अपनी पत्नी के साथ खुलकर बातचीत करनी चाहिए क्योंकि सहवास का पर्याय है बातचीत। किसी ऐसे सायकायट्रिस्ट से मिलना चाहिए, जिसके पास सेक्शुअल डिस्फंक्शन से संबंधित ट्रेनिंग हो। ऐसे मामलों में डॉक्टर या काउंसलर अपने मत को मरीज के ऊपर न थोपें। दूसरा-अंतरंग होने के दूसरे तरीक़ों को भी आजमाना चाहिए। एक दूसरे का हाथ पकड़ना, एक दूसरे से बातचीत करना और आलिंगन को ज़्यादा तवज्जो देनी चाहिए।

No comments