Breaking News

हिमाचल की पहली महिला बस चालक ने की नई मिसाल कायम!

हिमाचल की पहली महिला बस चालक ने की नई मिसाल कायम!

हिमाचल की पहली महिला सीमा ने इंटरस्टेट रूट पर हिमाचल पथ परिवहन निगम की बस चलानी आरंभ कर दी है। यह पहाड़ की पहली ऐसी महिला है, जिसने शिमला- चंडीगढ़ रूट पर बस चलाकर महिला सशक्‍तीकरण की नई मिसाल कायम की है। पहाड़ की बेटी की इस हिम्मत की चारों ओर सराहना हो रही है। बुधवार को पहली बार सोलन के अर्की की 31 वर्षीय सीमा ने अपने शौक को जुनून में बदल दिया। यह प्रदेश की पहली ऐसी महिला चालक बन गई है, जिसके खाते में नई उपलब्धि हासिल हो गई है।

आपको बता दें कि राज्य पथ परिवहन निगम में महिला बस चालक सीमा ठाकुर बुधवार को पहली बार शिमला से चंडीगढ़ बस चलाई। यह बस शिमला से 7 बजकर 55 मिनट पर चली। यह बस करीब सवा 12 बजे चंडीगढ़ पहुंचेगी। उसके बाद 12:30 बजे चंडीगढ़ से शिमला के लिए रवाना होगी। अभी तक सीमा ठाकुर शिमला सोलन के मध्य चलने वाली इलेक्ट्रिकल बस चलाती रही हैं।

राज्य पथ परिवहन निगम में बतौर चालक नियुक्ति प्राप्त करने के बाद सीमा शिमला शहर में चलने वाली निगम की टैक्सी सेवा को चलाती थी। उसके उपरांत इसे बस चलाने की अनुमति प्रदान की गई। अब यह पहला मौका है कि सीमा बस लेकर सोलन से आगे हरियाणा राज्य से होते हुए केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ तक यात्रियों को सफर करवाएगी।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सीमा ने शिमला के कोटशेरा कॉलेज में बीए पास कि थी। इसके बाद प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला से एमए की पढ़ाई की। एमए भी अंग्रेजी में पास की है। ऐसा विषय जिसमें पढाई करते हुए नौजवानों के भी पसीने छूटते हैं, इस युवती से आसानी से परीक्षा पास की। उसके पिता बलि राम भी एचआरटीसी में चालक थे। बाद में उनकी मौत हो गई थी। पिता ने उसे चौथी कक्षा से ही बस का स्टेयरिंग थमा दिया था, और गुरु पिता ही थे। सीमा शिमला में मैक्सी कैब, छोटी बस चला चुकी हैं। उन्‍हें मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के हाथों सम्मान भी मिल च़ुका है। प्रदेश में करीब 18 लाख वाहन हैं। लेकिन अब कई महिलाएं बड़े वाहन चलाने लगी हैं।

No comments