Breaking News

झोपड़ी में रहे, रात में चौकीदारी की, अब IIM में बने प्रोफेसर

झोपड़ी में रहे, रात में चौकीदारी की, अब IIM में बने प्रोफेसर

कहते हैं कि मेहनत रंग लाती है। तभी तो कोशिश करने वालों की हार नहीं होती! अगर कोशिशों से थक चुके हैं तो एक बार 28 वर्षीय रंजीत रामचंद्रन की कहानी जान लीजिए। रंजीत, सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करते थे और एक झोपड़ी में रहते थे। लेकिन उनका सपना कुछ और था जिसे हासिल करके वह दूसरों को लिए एक मिसाल बन गए हैं। दरअसल, केरल के रंजीत अब एक प्रोफेसर हैं वो भी रांची आईआईएम (इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट) में! उन्होंने 9 अप्रैल को फेसबुक पर घर (झोपड़ी) की एक तस्वीर के साथ अपनी कहानी शेयर की, जिसे न्यूज लिखे जान तक 39 हजार रिएक्शन्स और 11 हजार शेयर मिल चुके हैं।

रंजीत ने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘मैं इस घर में पैदा हुआ, बड़ा हुआ, बहुत सी खुशियों को जिया… बता दूं कि इस घर में IIM (Indian Institute of Management) के एक Assistant Professor का जन्म हुआ। मैं इस घर से आईआईएम-रांची तक का सफर शेयर कर रहा हूं। सोचा, शायद मेरी सफलता की कहानी किसी के सपनों के लिए खाद बन जाए।’
क्या है मामला?

रामचंद्रन की स्कूली शिक्षा हो चुकी थी। लेकिन जब उन्होंने बीए इकोनॉमिक्स की पढ़ाई के लिए St Pius X College में जाना शुरू किया तो उन्हें एहसास हुआ कि परिवार उनकी पढ़ाई का खर्च नहीं उठा सकता। ऐसे में उन्होंने पढ़ाई छोड़ने का फैसला किया। लेकिन इस दौरान रंजीत ने नाइट वॉचमैन की नौकरी का एक विज्ञापन देखा और जॉब के लिए आवेदन कर दिया। किस्मत से उन्हें पानाथूर में बीएसएनएल टेलीफोन एक्सचेंज में नाइट वॉचमैन का काम भी मिल गया।

ये भी पढ़े : सूरत के व्यापारी ने अपनी 2 माह की बेटी के लिए चांद पर खरीदी जमीन!

ये भी पढ़े :  LIC का नया प्लान: बेटी के लिए जमा करें केवल 150 रुपए, कन्यादान पर मिलेंगे 22 लाख रुपए

ये भी पढ़े : बेटी का सुहाग बचाने आगे आई मां, सास ने किडनी देकर दामाद को दिया नया जीवन

No comments