Breaking News

IPL 2021: 8 सालों में रोहित ने जीती 5 ट्रॉफी, इस वजह से एक भी ट्रॉफी नहीं जीत सके कोहली

IPL 2021: 8 सालों में रोहित ने जीती 5 आईपीएल ट्रॉफी, इस वजह से एक भी ट्रॉफी नहीं जीत सके कोहली

विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम ने ज्यादातर कामयाबी हासिल की है। ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज से लेकर इंग्लैंड तथा न्यूजीलैंड में T20 तक विराट कोहली की कप्तानी में टीम ने कामयाबी हासिल की है। लेकिन यदि बात की जाए आईपीएल की तो कप्तान विराट कोहली यहां पर सफल दिखाई नहीं देते हैं। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए भारतीय कप्तान विराट कोहली को साल 2013 में कप्तानी के लिए चुना गया था। तब से लेकर अब तक वह टीम की कप्तानी करते हैं। बात की जाए कामयाबी की, तो विराट कोहली की टीम आईपीएल में अभी तक सिर्फ एक बार ही फाइनल तक पहुंची है। यहां पर सबसे बड़ी बात यह है कि, आखिर क्यों विराट कोहली की टीम अभी तक आईपीएल में चैंपियनशिप नहीं हासिल कर सकी?

टीम नए खिलाड़ियों की प्रतिभा तलाशने में पीछे

बात की जाए, आरसीबी के आईपीएल में एक बार भी चैंपियन ना बनने की तो की सबसे बड़ी वजह यह है कि, अपने खिलाड़ियों पर भरोसा ना करना। टीम में कुछ खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्हें यदि छोड़ दिया जाए तो अन्य खिलाड़ी भी लंबे समय तक नहीं टिक पाएंगे। टीम के हर सीजन में खिलाड़ियों को खरीदा जाता है, जिसमें कुछ खिलाड़ियों को निकाल भी दिया जाता है।

विराट कोहली के अलावा एबी डिविलियर्स और युजवेंद्र चहल टीम के मुख्य खिलाड़ी हैं। आईपीएल के इस सीजन से पहले भी कई खिलाड़ियों को टीम से बाहर निकाला जा चुका है, जिससे असर टीम पर काफी ज्यादा देखा गया। यह टीम नए खिलाड़ियों की प्रतिभा को तलाशने में भी काफी पीछे हैं।

पांच बार विजेता रही मुंबई इंडियंस टीम में ज्यादातर यह देखा गया है कि, टीम की कामयाबी युवा खिलाड़ियों पर रहती है। सूर्यकुमार यादव, जसप्रीत बुमराह, हार्दिक पांड्या, कुणाल पांड्या, ईशान किशन जैसे खिलाड़ी टीम को जीत दिलाने वाले मुख्य खिलाड़ियों में से हैं। मुंबई इंडियंस टीम जहां नए खिलाड़ियों की प्रतिभा को मौका देती है, तो वहीं आरसीबी इस मामले में काफी ज्यादा पीछे है। नवदीप सैनी और यजुवेंद्र चहल के अलावा कोई अन्य नाम सामने नहीं आता है। कुलवंत खेजरोलिया, गुरकीरत सिंह, हिम्मत सिंह, शिवम दुबे, शाहबाज अहमद जैसे खिलाड़ी टीम में खेल चुके हैं, लेकिन टीम ने उन पर भरोसा नहीं दिखाया।
खिलाड़ियों पर भरोसा नहीं

पवन नेगी को ही ले लीजिए ।चेन्नई सुपर किंग्स के लिए उन्होंने कमाल का खेला था। बाद में उन्हें साल 2017 में आरसीबी ने एक करोड़ की कीमत में खरीद लिया। जिसके बाद 4 साल तक लगातार खेलते रहे। 21 मैच के दौरान उन्होंने 20 विकेट के अलावा 156 रन भी बनाए थे। इसके अलावा शेन वाटसन को साल 2016 में राजस्थान रॉयल्स के बैन लगने के बाद आरसीबी ने साढ़े नौ करोड़ में खरीदा था। यहां पर उन्होंने टीम के लिए 20 विकेट लिए थे। इतना ही नहीं साल 2017 की कुछ मैच में उन्हें कप्तान भी चुना गया था, लेकिन बाद में साल 2018 में उन्हें रिलीज कर दिया गया था।

वाटसन इसके बाद चेन्नई सुपर किंग्स टीम में शामिल हुए और 555 रन बनाने के बाद 6 विकेट भी अपने नाम पर किए। यहां शतक लगाते हुए उन्होंने सीएसके के चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाई।

ये खिलाड़ी ही नहीं बल्कि क्रिस मौरिस, क्विंटन डीकॉक और केएल राहुल जैसे खिलाड़ी भी आरसीबी का हिस्सा हुआ करते थे, लेकिन विराट कोहली और आरसीबी ने खिलाड़ियों पर भरोसा नहीं दिखाया। केएल राहुल को सन 2018 में रिलीज कर दिया गया था। बाद में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए वह कप्तान बने, जहां पर उन्हें 11 करोड़ में खरीदा गया था।

ये भी पढ़े : Post office की इस स्कीम में पैसा करें दोगुना, मिलेंगे 2 लाख के 4 लाख रु

ये भी पढ़े :  IPL 2021 से पहले कैफ ने की भविष्यवाणी, बताया कौन सी टीम जीतेगी इस बार IPL का खिताब


बता दें कि, सरफराज खान को उस समय रिटेन किया गया था, जब राहुल को रिलीज किया गया। टीम के द्वारा मौरिस ने भी अच्छा प्रदर्शन किया था, लेकिन उन्हें भी रिलीज कर दिया गया था। डिकॉक को रिलीज करने के बाद वह मुंबई इंडियंस में शामिल हुए थे। यह सब देखकर यह कहा जा सकता है कि, आरसीबी को अपने खिलाड़ियों पर भरोसा नहीं है और टीम एक से एक अच्छे खिलाड़ी को बाहर निकाल देती है। जोकि टीम की ना कामयाबी का बड़ा कारण बनता है।

विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम आरसीबी में गेंदबाजों की बात की जाए तो टीम के पास वैसे तो एक से बढ़कर एक बढ़िया गेंदबाज रहे, लेकिन वे लंबे समय तक टीम में नहीं टिक सके। मिचेल स्टार्क, डेल स्टेन जैसे खिलाड़ी भी टीम के लिए खेल चुके हैं। राइजिंग पुणे सुपरजाएंट में पावरप्ले के बढ़िया बॉलर साबित हुए वाशिंगटन सुंदर और युजवेंद्र चहल भी बेहद शानदार स्पिनर हैं।

कप्तान विराट कोहली अपने स्पिनर्स का सही ढंग से इस्तेमाल नहीं कर सके। इसके अलावा आरसीबी टीम के बैलेंस में भी काफी ज्यादा उतार-चढ़ाव देखा गया है, जिस कारण टीम फाइनल जीतने में सफल नहीं होती है।

No comments