Breaking News

LIC की स्पेशल स्कीम: बैंक की तरह जब चाहे तब निकालो पैसा

LIC की स्पेशल स्कीम: बैंक की तरह जब चाहे तब निकालो पैसा

बीते कुछ दिनों से म्यूचुअल फंड की एक खास स्कीम लिक्विड फंड की चर्चा बहुत ज्यादा हो रही है. एफडी पर ब्याज दरें जैसे-जैसे ब्याज दरें कम हुई हैं. वैसे-वैसे इन फंड्स पर लोगों का आकर्षण इस और बढ़ता गया है. बीते तीन साल में LIC MF Liquid Fund फंड ने 18 फीसदी का बंपर रिटर्न दिया है. इसीलिए आज हम आपको लिक्विड फंड से जुड़ी जरूरी बातें बता रहे है.

अगर आसान शब्दों में कहें तो लिक्विड फंड वो स्कीम होती है. जिनमें छोटी अवधि के लिए पैसा लगाया जाता है.एक्सपर्ट्स बताते हैं कि  निवेशक जब चाहें अपने पैसों को निकाल सकते हैं. यह पैसा उनके बैंक खाते में अगले ही दिन पहुंच जाता है. लिक्विड फंडों के मामले में फंड हाउस ने किसी तरह का एंट्री या एक्जिट लोड नहीं रखा है.

अब LIC MF Liquid Fund के बारे में जानते हैं….

बीते एक साल में बात करें तो इस फंड ने 3.5 फीसदी, 3 साल में 18 फीसदी, 5 साल में 100 फीसदी का रिटर्न दिया है. इसका मतबल साफ है कि अगर किसी ने 10 हजार रुपये 10 साल के लिए लगाए होते तो उनकी वैल्यू अब करीब 20623 रुपये होती है.

Lic Mf Gfx Image

रिटर्न पर एक नज़र

आइए लिक्विड फंड के बारे में जानते हैं…

ये स्कीमें बहुत छोटी अवधि के मार्केट इंस्ट्रूमेंट में पैसा लगाती है हैं. इनमें ट्रेजरी बिल, सरकारी बॉन्ड्स और कॉल मनी शामिल हैं.

लिक्विड फंड सेविंग बैंक अकाउंट के मुकाबले कुछ ज्यादा रिटर्न देते हैं. इनमें लिक्विडिटी की भी कोई समस्या नहीं है. जी हां, आप जब चाहें पैसा निकाल सकते हैं.

यही वजह है कि निवेशकों के बीच इसकी डिमांड तेजी से बढ़ रही है. इन फंडों से पैसे निकालने के आवेदन करने के एक दिन के भीतर आपके खाते में पैसा आ जाता है.

लिक्विड फंडों को तीन साल से ज्यादा समय तक रखने पर इंडेक्सेशन के साथ लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस टैक्स लगता है. तीन साल से पहले बेचने पर आपको उसी हिसाब से टैक्स देना पड़ेगा जिस टैक्स स्लैब में आप आते हैं.

अगर आप डिविडेंड ऑप्शन चुनते हैं तो फंड 29.12 फीसदी के डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स के दायरे में आएगा.

क्या इनमें पैसा लगाना फायदेमंद होता है?

जानेमाने एक्सपर्ट्स कहते हैं कि निवेशकों को छोटी अवधि लक्ष्यों के लिए लिक्विड फंडों में पैसा रखना चाहिए. यह छोटी अवधि एक दिन से लेकर छह महीने हो सकती है. अगर आपकी योजना कुछ महीनों के लिए है तो आप इन पैसों का इस्तेमाल कर सकते है. इनमें छुट्टी या किसी महंगे सामान की खरीद के लिए बचत शामिल है.

लिक्विड फंडों में सबसे कम जोखिम होता है. यही नहीं, म्यूचुअल फंड की तमाम कैटेगरी में इनमें सबसे कम अस्थिरता होती है. इसकी एक खास वजह है.

ये फंड अमूमन ज्यादा क्रेडिट रेटिंग (P1+) वाले इंस्ट्रूमेंट में निवेश करते हैं. इन फंडों की नेट एसेट वैल्यू बदलती रहती है. यह इस बात पर निर्भर करती है कि इंस्ट्रूमेंट से मिलने वाला ब्याज कितना है.

No comments