Breaking News

कोरोना पॉजिटिव हो गए है तो घबराइए नहीं, जानें क्या है होम क्वारंटाइन मे रहने का सही तरीका

कोरोना पॉजिटिव हो गए है तो घबराइए नहीं, जानें क्या है होम क्वारंटाइन मे रहने का सही तरीका

कोरोना माहामरी से निजात पाने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक और डॉक्टर लगे हुए हैं। बावजूद इसके अभी तक कोविड-19 के दुसरी लहर से निजात पाने में किसी भी देश को सफलता नहीं मिल पाई है। इस वायरस से देश के लाखों संक्रमित व्यक्ति अपनी जान गवां चुके हैं। और गवां भी रहे‌ है। ऐसे में इस समय जानलेवा वायरस से बचाव के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से DD NEWS पर आए डॉक्टरों ने आम लोगों को कुछ एहतियात बरतने की सलाह दी है। तो आइए जानते हैं क्या हैं। वो सलह

जैसे ही लक्षणों महसूस हो तुरंत खुद को होम क्वारंटाइन कर लें: डॉक्टर सरीन के मुताबिक अगर आप भी कोविड-19 संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए हैं या आपके भीतर कोविड के ये मामूली लक्षण जैसे बुखार, नाक बहना, जुकाम, गले में खराश, सिर दर्द, बदन टूटना, उल्टी, डायरिया, त्वचा पर चकत्ते, स्वाद, गंध का न आना और आंख लाल होना आदि जैसे लक्षण नजर आ रहे हैं तो सबसे पहले तुरंत खुद को होम क्वारंटाइन कर लें। तथा समय-समय पर अपना ऑक्सीजन लेवल भी चेक करते रहें। 

अगर आपका ऑक्सीजन लेवल 94 या उससे ऊपर रहता है तो आप घर पर खुद को होम क्वारंटाइन कर सकते हैं। ऐसी अवस्था में आपको अस्पताल जाने की जरूरत नहीं होती है। ध्यान रखें लक्षण दिखने के शुरूआती 4-5 दिन किसी तरह का कोई ब्लड टेस्ट करवाने की जरूरत नहीं है।

अगर ऑक्सीजन लेवल कम है। तो जांचना है बेहद जरूरी: डॉक्टर मृदुल कुमार के अनुसार जिन लोगों को छाती में ज्यादा कन्जेस्चन महसूस हो रही हो या खांसी अधिक हो, तेज बुखार से पीड़ित हैं। तो उनका ऑक्सीजन लेवल जांचना बेहद जरूरी हो जाता है। इसके अलावा दवा लेने के बाद जब आपका बुखार कम हो जाए तब भी अपना ऑक्सीजन लेवल जांचें। कोशिश करें कि कुछ देर चलने के बाद और चलने से पहले अपना ऑक्सीजन लेवल चेक करें।

कपड़े का मास्क हमेशा धोकर यूज़ करें: डॉक्टर अनूप के अनुसार, अगर व्यक्ति चेहरे पर दो कपड़े के मास्क पहन लेता है। तो वो हवा में फैले वायरस के कीटाणुओं से वह पूरी तरह सुरक्षित है। हाल ही में हुई एक रिसर्च में एक बात सामने आई है। जिसमें बताया गया कि 5 माइक्रोन से छोटे वायरस के कण एरोसोल के रूप में हवा में बने रहते हैं। इनसे बचने के लिए मास्क की एक लेयर काफी नहीं है।

 इससे बचाव के लिए मास्क की डबल लेयर का होना बेहद जरूरी है। यही वजह है कि सर्जिकल मास्क के ऊपर कपड़े का मास्क पहनने की सलाह दी जा रही है। सर्जिकल मास्क डिस्पोज़बल होने की वजह से बार-बार नहीं धोए जा सकते हैं। लेकिन, कपड़े का मास्क यूज करने के बाद धोकर दोबारा इस्तेमाल में लाया जा सकता है। यही वजह है कि चेहरे पर पहने गए दो कपड़े के मासक आपको वायरस से बचाने में सक्ष्म माने जा रहे हैं।

ये भी पढ़े : आइए जानते हैं चंबा के जोत नामक स्थान के बारे में जो किसी जन्नत से कम नहीं

No comments