Breaking News

कोरोना काल में इन दवाओं को घर पर जरूर रखें, नंबर दो है बड़ी जरूरी

कोरोना काल में इन दवाओं को घर पर जरूर रखें, नंबर दो है बड़ी जरूरी

कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। इस वायरस की दूसरी लहर से संक्रमितों की संख्या में भारी इजाफा हुआ है। ऐसे में इस वायरस की चेन को तोड़ने के लिए कई राज्यों ने अपने वहां लॉकडाउन लगा रखा है, जिसके कारण लोग अपने घरों में रहने को मजबूर हैं। वहीं, मौजूदा समय की मांग भी यही दिखती है। ऐसे में हम घर पर रहकर खुद को सुरक्षित तो रख सकते हैं, लेकिन साथ ही विशेषज्ञ मानते हैं कि कुछ ऐसी दवाएं हैं, जिन्हें हम इस कोरोना काल में अपने घर पर रख सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में।

पैरासिटामोल दवा इस कोरोना काल में घर पर पैरासिटामोल दवा का होना जरूरी है। जब आपको हल्का बुखार लगता है, तो डॉक्टर अमूमन इसी पैरासिटामोल दवा को लेने के लिए कहते हैं। चार से पांच घंटे के अंतराल पर ये दवा ली जा सकती है। हालांकि, अगर आपका बुखार कम नहीं हो रहा है तो ऐसी स्थिति में आपको अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए।

कफ सिरप अगर आपको खांसी है या गले में किसी तरह का दर्द है, तो इसमें आपकी मदद कफ सिरप कर सकती है। गुनगुने पानी के साथ दिन में दो बार आप इसका सेवन कर सकते हैं। लेकिन अगर आपकी खांसी कम नहीं हो रही है, तो फिर आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

दर्द की दवा कोरोना काल में आप घर पर दर्द की दवाएं भी रख सकते हैं। सिर में दर्द, बदन दर्द, शरीर में दर्द जैसी समस्याओं में ये दवाएं आराम देने का काम करती हैं। अगर आपको दर्द है तो आप इन दवाओं का सेवन कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि आपको लंबे समय तक इनका सेवन नहीं करना है और साथ ही दर्द कम न होने पर अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना है।

एंटी एलर्जिक दवा आपके शरीर में अगर किसी तरह की एलर्जी हो रही है, तो इस कोरोना काल में इसे यूं ही छोड़ा नहीं जा सकता है। ऐसे में आप घर में एंटी एलर्जिक दवा रख सकते हैं। लेकिन आपको इसका इस्तेमाल अपनी मर्जी से नहीं बल्कि डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।

एंटी एसिड दवा इस कोरोना काल में घर पर एंटी एसिड दवा भी आप रख सकते हैं। ये दवा कब्ज, एसिडीटी और पेट फूलने जैसी समस्याओं में लाभ देने के लिए जानी जाती है। लेकिन अगर आप इसके सेवन की सोच रहे हैं, तो आपको पहले अपने डॉक्टर को अपनी परेशानी और इस दवा के सेवन के बारे में पूछ लेना चाहिए और उनकी सलाह पर ही इसका सेवन करना चाहिए।

ये भी पढ़े : आइए जानते हैं चंबा के जोत नामक स्थान के बारे में जो किसी जन्नत से कम नहीं



नोट: डॉ. राजन गांधी अत्यधिक योग्य और अनुभवी जनरल फिजिशियन हैं। इन्होंने कानपुर के जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज से अपना एमबीबीएस पूरा किया है। इसके बाद इन्होंने सीएच में डिप्लोमा पूरा किया। फिलहाल यह उजाला सिग्नस कुलवंती अस्पताल, कानपुर में मेडिकल डायरेक्टर और सीनियर कंसल्टेंट फिजिशियन के तौर पर काम कर रहे हैं। यह आईएमए (इंडियन मेडिकल एसोसिएशन) के आजीवन सदस्य भी हैं। डॉ. राजन गांधी को इस क्षेत्र में 25 साल का अनुभव है।

No comments