Breaking News

मंडी: मां आखिर मां होती है! अपने बच्चे को बचाने के लिए चेक डैम में कूद गई मां, आखिरी सांस तक की कोशिश

मंडी: मां आखिर मां होती है! अपने बच्चे को बचाने के लिए चेक डैम में कूद गई मां, आखिरी सांस तक की कोशिश

यूं ही नहीं कहा जाता है कि, 'मां आखिर मां होती है'. एक मां हर परिस्थिति में अपने बच्चों के लिए समर्पित होती है. जन्म लेने से लेकर अंतिम सांस तक वह अपने बच्चों के लिए फिक्रमंद रहती है. हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में इसका एक उदाहरण देखने को मिला. यहां जोगिंद्रनगर में एक मां चेक डैम में डूब रहे अपने बच्चो को बचाने के लिए कूद गई. दुर्भाग्य से वो अपने बच्चे को नहीं बचा सकी और खुद भी चेक डैम में डूब गई.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 25 जून की सुबह करीब पौने ग्यारह बजे चांदनी गांव की 38 वर्षीय रज्जो देवी अपने 10 साल के बेटे अभिषेक के साथ खेतों में काम के लिए जा रही थी. इसी बीच रास्ते में चेक डैम की पगडंडी से गुजरते हुए अचानक उनके बच्चे का पैर फिसल गया और वो डैम में जा गिरा. बेटे को डूबते देख मां उसे बचाने के लिए खुद डैम में कूद गई और अपनी आखिरी सांस तक बच्चे को बचाने की कोशिश करती रही.

बाद में चीख-पुकार सुनकर स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और मां-बेटे को डैम से बाहर निकाला. फौरन उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां दोनों को मृत घोषित कर दिया. रज्जो देवी भले ही अपने बच्चे और खुद को नहीं बचा सकीं, मगर अपनी औलाद के लिए उनका समर्पण यह बताता है कि एक मां अपने बच्चों के लिए कुछ भी कर सकती है. यहां तक की अपनी जान तक दे सकती है. मां के समर्पण को सलाम!

No comments