Breaking News

शादी में लडकिया क्यों पहनती है लाल रंग का शादी का जोड़ा?

red-color-wedding-dress-is-a-sign-of-love

लड़कियों के सामने जब उनकी शादी की बात की जाती है उनके चेहरे पर एक अलग ही ख़ुशी देखने को मिलती है वह अपनी शादी के लिए कई सपने देखने लग जाती है सबसे पहला सपना तो उसका यह रहता है कि वह उसका होने वाला पति कैसा होगा वह ससुराल में अपने आप को किस तरह ढालेगी इस माहौल से निकलकर ससुराल का माहौल कैसा होगा और वह खुद को इस माहौल में किस तरह शामिल हो पाएगी शादी के लिए के लिए लड़कियों के कई सपने होते हैं लेकिन कुछ खास सपनों में से एक सपना होता है शादी का जोड़ा.

शादी के जोड़े को लेकर लड़कियां बहुत कुछ सोचकर पहले से ही रखती है शादी का जोड़ा यदि नहीं होता है तो दुल्हन का श्रृंगार अधुरा मना जाता है शादी में दुल्हन का शादी का जोड़ा एक विशेष महत्व रखता है दुल्हन के सोलह श्रृंगार होते हैं और इन सोलह श्रृंगार में से शादी के जोड़े को भी एक शृंगार की श्रेणी में रखा जाता है शादी का जोड़ा ससुराल की ओर से दुल्हन को दीया जाता है पहले शादी के जोड़े सिंपल आते थे लेकिन बदलते दोर और फैशन के अनुसार ट्रेड को देखते हुए दुल्हन के शादी के जोड़े काफी रंग-बिरंगे और नवरंग आने लग गए है.

आज के दौर के हिसाब से भले ही कई कलर में शादी के जोड़े मार्केट में आ गए हो लेकिन लाल कलर के शादी के जोड़े को ही शुभ माना चाहता है क्योंकि लाल रंग प्यार का प्रतीक होता है अतः लाल रंग सुहाग की निशानी माना जाता है महिलाए लाल बिंदी ही लगाती है क्योंकि लाल कलर सभी तरह के मांगलिक कार्यों के लिए शुभ माने जाते हैं और यह सुहाग का प्रतीक माना जाता है भारतीय परंपराओं के अनुसार महिलाओं का शादी का जोड़ा लाल कलर को होना चाहिए है यदि परिवार में कोई धार्मिक कार्यक्रम होता है तो महिलाएं अधिकतर लाल कलर के ही कपड़े पहनना पसंद करती है क्योंकि लाल कलर देवी-देवताओं को भी अधिक प्रिय लगते हैं

लाल रंग को महिलाओं के शक्ति का प्रतीक बताया गया इसलिए शादी में लड़कियों को चुनरी हो लहंगा हो या फिर साड़ी वह लाल कलर की ही होती है शादी का जोड़ा दुल्हन के लिए एक विशेष महत्व रखता है क्योंकि इस जोड़े को पहनकर ही बाबुल का घर छोड़ कर पिया के घर हमेशा के लिए क्षमा चाहती है

No comments