Breaking News

विश्वास कीजिए! क्रिस गेल का मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड 41+ साल की उम्र में आया है

विश्वास कीजिए! क्रिस गेल का मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड 41+ साल की उम्र में आया है

ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध टी 20 इंटरनेशनल सीरीज के तीसरे मैच में वेस्टइंडीज की जीत से भी बड़ी खबर ये थी कि ‘यूनिवर्स बॉस’ के नाम से मशहूर क्रिस गेल ने प्लेयर ऑफ़ मैच का अवॉर्ड जीता, अपने 38 गेंद में 4 चौके और 7 छक्के के साथ 67 रन के लिए।

ये स्कोर उनके लिए बड़ा ख़ास था, क्योंकि ये उन आलोचकों को जवाब था, जो ये कह रहे थे कि इस बड़ी उम्र में गेल के दिन अब लद गए। कुछ हद तक बात भी ठीक थी, क्योंकि इस मैच से पहले तक 2016 के बाद से टी20 इंटरनेशनल में 50 का एक भी स्कोर नहीं बनाया थाI इतना ही नहीं, इस साल की शुरुआत में टीम में वापस बुलाए जाने के बाद से 9 पारियों में सिर्फ 102 रन बनाए थेI ऐसे में सात छक्के वाली पारी खेली और इसी दौरान 14000 टी20 रन भी पूरे किए।

जिस एक ख़ास बात को नज़रअंदाज़ कर दिया गया, वह है उनकी उम्र। इस मैच में प्लेयर ऑफ़ मैच का अवार्ड जीता 41 साल 291 दिन की उम्र में और रिकॉर्ड ये है कि टेस्ट खेलने वाले देश से टी20 आई में ये अवार्ड जीतने वाले वे सबसे बड़ी उम्र के क्रिकेटर हैं। एसोसिएट देशों की टीम से चार खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्होंने 42 साल की उम्र में ये अवार्ड जीता- टॉप पर कतर के फैसल जावेद (लगभग 44 साल की उम्र में जनवरी 2019 में अल-अमरात में बहरीन के विरुद्ध 60 रन के लिए)। मजे की बात ये है कि जब अवार्ड जीता था तो उस मैच में 40 साल के इनाम-उल-हक के साथ पारी की शुरुआत की थी।

ऐसी बड़ी उम्र में ऐसी क्रिकेट खेलना कि प्लेयर ऑफ़ मैच का अवॉर्ड मिल जाए, कोई मामूली बात नहीं है। अगर अन्य दूसरी क्रिकेट में देखें तो क्या पता लगता है? वन डे इंटरनेशनल में मैच अवार्ड जीतने वाले सबसे सबसे बड़ी उम्र के क्रिकेटर खुर्रम खान हैं- उस दिन 43 साल 61 दिन के थे, जब नवंबर 2014 में दुबई में अफगानिस्तान के विरुद्ध यूनाइटेड अरब अमीरात के लिए 132* रन बनाए थे (वन डे इंटरनेशनल में सबसे बड़ी उम्र में सेंचुरी स्कोर करने का रिकॉर्ड भी उनके ही नाम है) – सनथ जयसूर्या उनसे लगभग चार साल पीछे हैं। ऑस्ट्रेलिया के बॉबी सिम्पसन 42 वर्ष के थे, जब उन्होंने अप्रैल 1978 में सेंट लूसिया में वेस्ट इंडीज के विरुद्ध अपने दूसरे (और आखिरी) वन डे इंटरनेशनल मैच में अवार्ड जीता था।

टेस्ट क्रिकेट में ये अवार्ड जीतने वाले सबसे बड़ी उम्र के क्रिकेटर ग्राहम गूच हैं जिन्होंने अपने 41वें जन्मदिन से लगभग 6 हफ्ते पहले, जून 1994 में ट्रेंट ब्रिज में न्यूजीलैंड के विरुद्ध इंग्लैंड के लिए 210 रन बनाए थे। तीन और क्रिकेटर हैं जो 40+ उम्र में प्लेयर ऑफ मैच चुने गए- क्लाइव लॉयड (1984-85 में) तथा शिवनरैन चंद्रपॉल और मिस्बाह-उल-हक (दोनों 2014-15 में)। इस संदर्भ में इंग्लैंड के टॉम ग्रेवेनी का जिक्र जरूरी है जो 1960 के दशक में तीन टेस्ट मैच में
‘बैट्समैन ऑफ़ मैच’ थे- उन सालों में अक्सर एक ही टेस्ट में कई बराबर अवार्ड दिए जाते थे। इनमें से आखिरी अवार्ड 1967 में पाकिस्तान के विरुद्ध द ओवल में लगभग 40 साल की उम्र में मिला।

इस पूरी चर्चा में ये ध्यान रखना जरूरी है कि मैन/प्लेयर ऑफ मैच अवॉर्ड का सिलसिला 1980 के सालों के आसपास शुरू हुआ था, कई टेस्ट में तो कोई स्पांसर न होने के कारण ऐसा अवार्ड दिया भी नहीं गय। अब फिर गेल पर लौटते हैं- अभी वे रुके कहां हैं और रिकॉर्ड को न जाने कहां तक ले जाएंगे?

No comments