Breaking News

गलती से किसी दूसरे के बैंक खाते या UPI में चला गया है पैसा? तो ऐसे ला सकते हैं वापस

गलती से किसी दूसरे के बैंक खाते या UPI में चला गया है पैसा? तो ऐसे ला सकते हैं वापस

ऑनलाइन डिजिटल वॉलेट, Amazon Pay, NEFT, RTGS, UPI, GPay, BHIM और ऐसी अन्य सेवाओं के साथ बैंक लेनदेन आजकल बेहद ही आसान हो गया है. आजकल हम बैंकों और एटीएम पर लंबी कतारों में न लगकर अपने फोन से ही बड़े पैमाने पर पैसों का लेनदेन कर सकते हैं.

असल में ऐसा ऑनलाइन बैंकिंग के माध्यम से संभव हो पाया है, आजकल कहीं भी लेनदेन को संभव करने वाली नेट बैंकिंग ही है. ऑनलाइन पैसे भेजना और प्राप्त करना बेहद आसान हो गया है. यह बेहद सुविधाजनक हो गया है, लेकिन इस प्रक्रिया के दौरान हम कई बार गलतियाँ कर देते हैं.

कई बार हम किसी भी कारण से सही किसी गलत बैंक अकाउंट में या किसी दूसरे के UPI id में पैसा ट्रांसफर कर देते हैं, अब अगर आपके साथ भी ऐसी परिस्थिति कभी बनी है या आपके किसी करीबी के साथ ऐसा हुआ है तो उसे क्या करना चाहिए, आइये जानते हैं...

क्या करें अगर आपसे भी किसी गलत बैंक अकाउंट में पैसा ट्रांसफर हो गया है?

जल्द से जल्द बैंक के ब्रांच मेनेजर से संपर्क करें: सबसे पहले आपको तुरंत यह करना चाहिए कि आप अपने बैंक को मेल के माध्यम से सूचित करें कि आपसे एक गलत फण्ड ट्रांसफर हो गया है. यदि लाभार्थी का उसी ब्रांच में खाता है, तो वे उससे संपर्क करके और राशि वापस करने का अनुरोध करके आपकी मदद कर सकते हैं. यदि लाभार्थी का खाता किसी अन्य बैंक या शाखा में है तो केवल वही बैंक या शाखा इसे सुलझा सकती है.

तो, प्रारंभिक कदम सबसे पहले आपको अपने बैंक ब्रांच तक पहुंचना है. लेन-देन की तारीख और समय, अपना खाता नंबर, लाभार्थी की खाता संख्या जैसे विवरण का उल्लेख करें. लेन-देन के प्रमाण का स्क्रीनशॉट संलग्न करना बेहतर है.

शिकायत दर्ज करें: यदि आपके केस में पहला विकल्प काम नहीं करता है या ब्रांच को आपके खाते में आपके पैसे वापस करने में अधिक समय लगता है, तो आप हमेशा उस ब्रांच में शिकायत कर सकते हैं जहां प्राप्तकर्ता का खाता है. बैंक खुद अपने ग्राहकों के बैंक खाते से पैसे नहीं निकाल सकता है, लेकिन वे ग्राहक को बता सकते हैं और उन्हें आपके खाते में पैसे वापस ट्रांसफर करने के लिए क्या करना होगा, या सामने वाली पार्टी को भी वह ऐसा करने के लिए कह सकते हैं. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि ब्रांच अपने ग्राहकों के बारे में जानकारी साझा नहीं करेगी. यह केवल लाभार्थी से आपको पैसे वापस भेजने के लिए कह सकता है.

कानूनी कार्रवाई: यदि लाभार्थी (जिसके बैंक खाते में रूपये गए हैं ) आपके पैसे वापस भेजने से इनकार करता है जिसे आपने गलती से उसके खाते में ऑनलाइन ट्रांसफर कर दिया है, तो अंतिम उपाय कानूनी कार्रवाई होगी. ज्यादातर बार ऐसा देखा गया है कि लाभार्थी रूपये वापस ऑनलाइन ट्रांसफर करने के लिए सहमत हो जाता है. यदि लाभार्थी रूपये वापस करने की अनुमति नहीं देता है, तो बैंक कानूनी कार्रवाई कर सकता है और खाताधारक पर मुकदमा (FIR) दर्ज कर सकता है. आप अपनी ओर से भी कानूनी कार्रवाई शुरू कर सकते हैं.

No comments