Breaking News

शास्त्री के पांच बेस्ट फैसले, जिन्होंने बदल दी टीम इंडिया की तस्वीर

शास्त्री के पांच बेस्ट फैसले, जिन्होंने बदल दी टीम इंडिया की तस्वीर

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) जब से टीम इंडिया (Team India) के हेड कोच बने हैं तभी से टीम की काया पलट गई है, रवि शास्त्री के कोच रहते टीम इंडिया ने विश्व में हर जगह शानदार क्रिकेट खेलते हुए अपनी अलग पहचान बनाई है. अपनी कोचिंग में टीम इंडिया को सफलता के शिखर पर ले जाने वाले रवि शास्त्री (Ravi Shastri) की सबसे बड़ी खासियत है युवा खिलाड़ियों में आत्माविश्वास जगाना. उसी का ये परिणाम हो जिसके चलते आज टीम इंडिया के पास विकल्पों की कोई कमी नहीं है. आज हम अपने आर्टिकल में कोच रवि शास्त्री के उन पांच बड़े फैसलों से आपको रूबरू कराने जा रहे हैं जनके चलते टीम इंडिया की तस्वीर ही बदल गई.

1-जब टीम इंडिया की हंसी उड़ाने वालों को रवि शास्त्री ने सिखाया सबक 
ऑस्ट्रेलिया दौरे के पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया महज 36 रन पर सिमट गई. ये भारत का सबसे न्यूनतम स्कोर था और ऐसे शर्मनाक प्रदर्शन के बाद हर खिलाड़ी का मनोबल टूट चुका था. मगर रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने खिलाड़ियों में जीत की ऐसी भूख पैदा की जिसकी कल्पना ही नहीं की जा सकती है. वो रवि शास्त्री ही थे जिन्होंने टीम इंडिया में जीत की आग भरी.

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने एडिलेड टेस्ट में मिली शर्मनाक हार के बाद खिलाड़ियों को कहा कि वो 36 रन पर सिमटने से दुखी ना हों, बल्कि वो इसे एक बैज की तरह पहनें. ऐसा करने से आप अच्छा प्रदर्शन करेंगे. रवि शास्त्री की ये बात काम कर गई और अगला ही टेस्ट टीम इंडिया ने जीता.

तीसरा टेस्ट हैरतअंगेज तरीके से ड्रॉ हुआ और अंत में भारत ने ब्रिसबेन में ऐतिहासिक जीत हासिल कर सीरीज पर 2-1 से कब्जा किया. रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने इसके साथ ही उन लोगों को भी करारा जवाब दिया जो टीम इंडिया की हंसी उड़ा रहे थे.

2-वॉशिंगटन सुंदर पर रवि शास्त्री ने लगाया दांव वो रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ही थे जिन्होंने वॉशिगंटन सुंदर (Washington Sundar) को बल्लेबाजी के लिए प्रेरित किया. ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टीम इंडिया के कई खिलाड़ी चोटिल हो गए और चौथे टेस्ट में टीम इंडिया के पास कुलदीप यादव और वॉशिंगटन सुंदर में से किसी एक को मौका देने का विकल्प बचा.

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने कुलदीप की जगह नेट बॉलर वॉशिंगटन सुंदर (Washington Sundar) को मैच खिलाने का फैसला किया. सुंदर ने उस टेस्ट मैच में 84 रन बनाए और 3 विकेट भी हासिल किये. बता दें वो रवि शास्त्री ही थे जो सुंदर से नेट्स पर रोज बल्लेबाजी करने को कहते थे.

3-जब रवि शास्त्री ने मोहम्मद सिराज का खोया हुआ आत्मविश्वास जगाया ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मोहम्मद सिराज (Mohammed Siraj) के प्रदर्शन को भला कौन भूल सकता है. सिराज को मेलबर्न टेस्ट में डेब्यू का मौका रवि शास्त्री ने ही दिया. बता दें ऑस्ट्रेलिया पहुंचते ही सिराज को उनके पिता के देहांत की खबर मिली.

इसके बाद कोच शास्त्री (Ravi Shastri) सिराज (Mohammed Siraj) के पास गए और उन्होने इस मुख्किल घड़ी में युवा खिलाड़ी का खोया हुआ आत्मविश्वास जगाया. इसके बाद मोहम्मद सिराज ने पूरी सीरीज में शानदार गेंदबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को खूब परेशान किया था.

4-ऋषभ पंत के खराब दौर में रवि शास्त्री ने की मदद जिस ऋषभ पंत (Rishabh Pant) को आज दुनिया सलाम कर रही है, एक वक्त ऐसा भी था जब उन्हें बाहर निकालने की मांग हो रही थी. साल 2019 में खराब प्रदर्शन के बाद लगातार ऋषभ पंत पर दबाव बनाया जा रहा था लेकिन ऐसे मौके पर रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने उनका साथ दिया.

रवि शास्त्री (Ravi Shastr) ने हर बार पंत (Rishabh Pant) को टैलेंटेड खिलाड़ी बताया और वो टीम इंडिया में बरकरार रहे. इसके बाद पंत ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. बाएं हाथ का ये बल्लेबाज अपने दम पर ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज जिता चुका है.

5-रवि शास्त्री की वजह से स्पिन गेंदबाजी को मिली नई धार चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल में मिली हार के बाद टीम इंडिया ने वनडे और टी20 फॉर्मेट में कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की जोड़ी को मैदान पर उतारा. इन दोनों गेंदबाजों ने मिलकर विपक्षी टीमों के नाक में दम किया. भारत ने वेस्टइंडीज, श्रीलंका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और साउथ अफ्रीका में वनडे सीरीज जीती.

यही नहीं एशिया कप 2018 में भी उसे जीत हासिल हुई. इन सभी दौरों पर मिली जीत में चहल-कुलदीप की फिरकी का बड़ा हाथ था. बता दें इन दोनों खिलाड़ियों को प्लेइंग इलेवन में शामिल करने का आइडिया भी रवि शास्त्री (Ravi Shastr) का ही था, जिसका टीम इंडिया को जमकर फायदा मिला.

No comments