Breaking News

why and how tears come from Eyes: आखिर क्यों और कैसे आते है? हमारी आँखों से आंसू,

why and how tears come from Eyes: आखिर क्यों और कैसे आते है? हमारी आँखों से आंसू,

मनुष्य का रोना एक स्वाभाविक और भावनात्मक क्रिया है, लेकिन इसके पीछे विज्ञान भी काम करता है | भावनाओ में बहकर इंसान अक्सर रोता है, लेकिन आंसू केवल दुःख या परेशानी में ही नहीं आते है | तेज हवा और खास गंध की वजह से भी आंसू आते है, जैसे प्याज काटते समय आंसुओ का आना | आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने जा रहे है, कि आंसू कैसे और क्यों आते है | तो आइये जानते है...

वैज्ञानिको ने आंसुओ को तीन भागो में बांटा है | पहला बेसल टीयर्स (Basal Tear), ये वे आंसू होते है जो आँखों को सूखने से बचाते है | दूसरा इमोशनल टीयर्स (Emotional Tear), ये वे आंसू होते है, जो किसी भावना की वजह से आते है | तीसरा रिफ्लेक्स टीयर्स (Reflex Tear), ये वे आंसू होते है जो किसी गंध की वजह से या आंख में कुछ गिरने की वजह से आते है |

बता दे इमोशनल आंसुओ को क्राइंग आंसू भी कहा जाता है | इंसान के मस्तिष्क में एक लिंबिक सिस्टम होता है, जिसमें दिमाग का हाइपोथैलेमस होता है, ये हिस्सा नर्वस सिस्टम से सीधे संपर्क में रहता है | जब भी इंसान किसी भावना में होता है, तो इस सिस्टम का न्यूरोट्रांसमिटर संकेत देता है और किसी भावना के एक्सट्रीम पर हम रो पड़ते हैं |

क्यों रोता है इंसान वैज्ञानिको की माने तो रोना इंसान की एक खास काबिलियत है | ये संवाद करने का नॉन वर्बल तरीका है, इससे इंसान सामने वाले को बताता है कि उसे मदद की जरूरत है | मनोवैज्ञानिक भी इस बात पर जोर देते है, कि भावनावश रोना अच्छा होता है | इससे तनाव कम होता है और मानसिक स्वास्थ्य भी मजबूत होता है |

नॉन वर्बल यानी गैर मौखिक का सबसे बड़ा उदाहरण आप बच्चो से समझ सकते है | बच्चे जब बोलना नहीं सीखते है, तो रोने के माध्यम से ही अपनी जरूरत बताते, जैसे भूख लगना, वगैरह |

आपकी जानकरी के लिए बता दे रोने से हमारा दिमाग एंडोमॉर्फिन केमिकल रिलीज़ करता है, जो कि हमे अच्छा महसूस करता है | सिर्फ इंसान के अलावा हाथी और गोरिल्ला ही ऐसे जीव है, जो भावना में आंसू बहते है |

No comments