Breaking News

सस्ता सोना खरीदने का सुनहरा मौका, यहां जानिए 14 से 24 कैरेट का ताजा रेट

सस्ता सोना खरीदने का सुनहरा मौका, यहां जानिए 14 से 24 कैरेट का ताजा रेट

अगर आप सोना या फिर सोने के गहने खरीदना चाहते हैं आपके लिए अच्छी खबर है। अगस्त महीने के तीसरे सप्ताह के पहले कारोबारी दिन सोने की कीमत में गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि ये गिरावट मामूली है। सोमवार को (23 Auguest) को सोने की कीमत में 23 रुपये प्रति तोले की गिरावट दर्ज की गई। इस गिरावट के साथ सोमवार को सोना 47306 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ। इससे पहले पिछले कारोबारी हफ्ते के आखिरी दिन शुक्रवार को सोना 47329 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ था।

सोना के उलट सोमवार को चांदी की कीमत में तेजी दर्ज की गई। सोमवार को चांदी 31 रुपये की बढ़त के साथ 62202 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया। वहीं शुक्रवार को चांदी 62233 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुआ था।

ऑलटाइम हाई से सोना 8994 और चांदी 17747 रुपये सस्ता

इस तरह सोना और चांदी अभी भी ऑल टाईम हाई से काफी सस्ता बिक रहा है। सोना अपने ऑलटाइम हाई से करीब 9000 रुपये प्रति 10 ग्राम रुपये सस्ता बिक रहा है। आपको बता दें सोने ने अपना ऑलटाइम हाई अगस्त 2020 में बनाया था। उस वक्त सोना 56,200 रुपये प्रति दस ग्राम के स्तर तक चला गया था। वहीं चांदी का अबतक का उच्चतम स्तर 79980 रुपये प्रति किलो है। इस हिसाब से चांदी भी अपने उच्चतम स्तर से करीब 17000 रुपये सस्ता बिक रही है।

14 से लेकर 24 कैरेट सोना का ताजा भाव

सोमवार को भारतीय सर्राफा बाजार में 24 कैरेट वाला सोना 47411 रुपये प्रति 10 ग्राम, 23 कैरेट वाला सोना 47221 रुपये प्रति 10 ग्राम, 22 कैरेट वाला सोना 43428 रुपये प्रति 10 ग्राम, 18 कैरेट वाला सोना 35558 रुपये प्रति 10 ग्राम और 14 कैरेट वाला सोना 27735 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ।

मिस कॉल देकर ऐसे जानें सोने का लेटेस्ट प्राइस

22 कैरेट और 18 कैरेट गोल्ड जूलरी के खुदरा रेट जानने के लिए 8955664433 पर मिस्ड कॉल दे सकते हैं. कुछ ही देर में एसएमएस के जरिए रेट्स मिल जाएंगे। इसके साथ ही लगातार अपडेट्स की जानकारी के लिए www.ibja.co पर देख सकते हैं।

सोना दिवाली तक गिरकर हो सकता है 52000 रुपये प्रति तोला

सर्राफा बाजार जानकारों की मानें तो सोना खरीदने का यह सही समय है। जानकारों के मुताबिक दिवाली तक सोने का भाव गिरकर 52000 रुपए प्रति 10 ग्राम तक आ सकता है। ऐसे में अगर आप अभी सोने में निवेश ना करके कुछ दिन बाद करते हैं तो भविष्य में आपको सोना से अच्छा मुनाफा हो सकता है।

वहीं एक अन्य रिपोर्ट की मानें तो पिछले साल की तरह इस साल भी सोने की कीमत में तेजी आ सकती है और यह नया रिकॉर्ड बना सकता है। इन लोगों का कहना है कि इस साल के अंत तक सोना 60,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के आंकड़े को भी पार कर सकता है। लिहाजा सोना खरीदारों को या फिर निवेशकों को अभी सोना खरीद लेना चाहिए। ताकि आने वाले दिनों में अच्छा रिटर्न मिल सके।

पिछले हफ्ते अबतक सोने-चांदी की रही ये चाल

आपको बता दें कि पिछले हफ्ते (16-20 August) सोने की कीमत में 767 रुपये प्रति 10 ग्राम की तेजी देखी गई, जबकि चांदी की कीमत में 148 रुपये की गिरावट आई। पिछले के पहले कारोबारी सोमवार को सोना 46,353 रुपये प्रति तोला के स्तर पर खुला था जबकि शुक्रवार को सोना 45,586 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। पिछले सोमवार (16 August) 61045 रुपये प्रति किलोग्राम के स्तर पर खुला था जबकि शुक्रवार को यह 60,897 रुपये प्रति किलोग्राम था। यानी पूरे हफ्ते चांदी के भाव में 148 रुपये की गिरावट आई।

ऐसे सोने के बनते हैं गहने

आपको बता दें कि 24 कैरेट सोना सबसे शुद्ध होता है, लेकिन 24 कैरेट गोल्ड की ज्वेलरी नहीं बनती है। आम तौर पर ज्वेलरी बनाने के लिए 22 कैरेट सोने का इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें 91.66 फीसदी सोना होता है। अगर आप 22 कैरेट सोने की ज्वेलरी लेते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि इसमें 22 कैरेट गोल्ड के साथ 2 कैरेट कोई और मेटल मिक्स किया गया है।

ऐसे करें गहने की शुद्धता की पहचान

गहने यानी ज्वेलरी में शुद्धता को लेकर हॉलमार्क से जुड़े 5 तरह के निशान होते हैं, और ये निशान ज्वेलरी में होते हैं। इसमें से एक कैरेट को लेकर लेकर होता है। अगर 22 कैरेट की ज्वेलरी होगी तो उसमें 916, 21 कैरेट की ज्वेलरी पर 875 और 18 कैरेट की ज्वेलरी पर 750 लिखा होता है। वहीं अगर ज्वेलरी 14 कैरेट की होगी तो उसमें 585 लिखा होगा। आप खुद ज्वेलरी में इस निशान को देख सकते हैं।

हॉलमार्क देखकर ही खरीदें गोल्ड

आपको बता दें कि सोना खरीदते समय उसकी क्वॉलिटी का ध्यान जरूर रखें। हॉलमार्क देखकर ही सोने के गहनों की खरीदना चाहिए। हॉलमार्क सोने की सरकारी गारंटी है और भारत की एकमात्र एजेंसी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (BIS) हॉलमार्क का निर्धारण करती है। हॉलमार्किंग योजना भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम के तहत संचालन, नियम और रेग्युलेशन का काम करती है।

No comments