Breaking News

कैसे पता करें कि आपको अभी तक कोरोना हुआ था या नहीं?


कैसे पता करें कि आपको अभी तक कोरोना हुआ था या नहीं?

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने भारत में कहर मचा रखा है. बीते 10 दिनों से रोजाना 1 लाख से अधिक नए संक्रमितों के मामले सामने आ रहे हैं. शोधकर्ताओं की मानें तो ऐसे कुछ संकेत हैं जिसके आधार पर यह कहा जा सकता है कि व्यक्ति को कोरोना छूकर निकल गया लेकिन उन्हें पता भी नहीं चला. डॉक्टरों की मानें तो इसमें से कुछ लक्षण लॉन्ग कोविड के रूप में कई महीनों तक बने भी रह सकते हैं.

क्या आपको कोरोना हुआ था, ऐसे करें पहचान टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट की मानें तो डॉक्टरों और एक्सपर्ट्स का कहना है कि एक अच्छी खासी आबादी ऐसे लोगों की भी है जिन्हें किसी न किसी तरह से वायरस का इंफेक्शन हुआ लेकिन उनका टेस्ट पॉजिटिव नहीं आया, या फिर उन्होंने टेस्ट करवाया ही नहीं क्योंकि उनमें किसी तरह के कोई लक्षण नहीं दिखे. कोरोना वायरस की इस दूसरी लहर में जहां ज्यादातर मामले सिम्प्टोमैटिक यानी लक्षण वाले हैं जिसमें सर्दी-जुकाम और बुखार के अलावा पेट दर्द, सिरदर्द, पिंक आई जैसे विचित्र लक्षण देखने को मिल रहे हैं. वहीं, पिछले साल एसिम्प्टोमैटिक यानी बिना लक्षण वाले मरीज ज्यादा थे.

आंखों का लाल होना अक्सर वायरल इंफेक्शन की वजह से आंखें लाल हो जाती हैं या कंजंक्टिवाइटिस की दिक्कत हो जाती है. लेकिन आंखों का लाल होना, पानी आना कोविड-19 का संकेत भी हो सकता है. हालांकि कोरोना इंफेक्शन होने पर सिर्फ आंखें लाल नहीं होंगी बल्कि साथ में बुखार या सिरदर्द जैसे लक्षण भी शामिल होंगे. ऐसे में अगर पहले कभी आपके साथ ऐसा हुआ हो तो यह कोरोना इंफेक्शन का संकेत हो सकता है.

ज्यादा थकान लगना बहुत ज्यादा थकान महसूस होना भी कोविड-19 का एक लक्षण हो सकता है. ऐसे में अगर आपको भी कभी ऐसा महसूस हुआ हो कि आपको हद से ज्यादा थकान महसूस हो रही है और आप अपना रोजमर्रा का काम भी ढंग से नहीं कर पाए और पूरे शरीर में दर्द महसूस हो रहा था और वह भी 3-4 दिनों तक तो यह भी इस बात का संकेत हो सकता है कि आपको कोरोना इंफेक्शन हुआ था लेकिन पता नहीं चला.

कमजोर याद्दाश्त कोरोना संक्रमण की वजह से लोगों की याद्दाश्त और संज्ञानात्मक क्षमता पर भी बुरा असर पड़ रहा है. इसके अलावा कुछ लोगों को कन्फ्यूजन, असंतुलन और कॉन्सन्ट्रेट करने में दिक्कत जैसी समस्याएं भी आ रही हैं. इस स्थिति को मेडिकल टर्म में ब्रेन फॉग कहा जाता है. ऐसे में अगर आपको भी कभी ऐसा महसूस हुआ कि आपको फोकस करने में दिक्कत हो रही है, आप चीजें याद नहीं रख पा रहे हैं तो यह भी कोरोना संक्रमण के कारण हो सकता है.

पेट से जुड़ी दिक्कतें कोरोना संक्रमण सिर्फ श्वसन तंत्र को ही नहीं बल्कि पाचन तंत्र को भी प्रभावित कर रहा है. रिसर्च की मानें तो ऐसे कई लोग हैं जिन्हें कोरोना से संक्रमित होने के बाद न तो सर्दी-जुकाम हुआ और ना ही बुखार. उनमें डायरिया, जी मिचलाने, पेट में ऐंठन और भूख न लगने जैसे लक्षण दिखे जो डायग्नोज नहीं हो पाए.

सांस लेने में तकलीफ सांस फूलना या सांस लेने में दिक्कत होना भी कोरोना वायरस से जुड़ी एक गंभीर समस्या है. अगर आपको भी सांस लेने में परेशानी के साथ ही सीने में जकड़न और भारीपन महसूस हुआ हो, दिल की धड़कन बढ़ गई हो तो इसे भी कोरोना इंफेक्शन का संकेत माना जा सकता है.

No comments