Breaking News

जब धोनी ने टिप्स देकर बदल दिया दिनेश कार्तिक के सोचने का अंदाज

जब धोनी ने टिप्स देकर बदल दिया दिनेश कार्तिक के सोचने का अंदाज

भारत के इंग्लैंड दौरे पर टीवी कॉमेंट्री कर रहे भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने एक किस्सा शेयर किया है. आकाश चोपड़ा से बात करते हुए उन्होंने 2007 के इंग्लैंड टूर पर पहुंची भारतीय टीम को याद किया है. साथ ही एमएस धोनी और राहुल द्रविड़ के उन शब्दों के बारे में बताया जिनके चलते वह बल्लेबाजी में और बेहतर कर पाए.

कार्तिक ने पूर्व भारतीय बल्लेबाज आकाश चोपड़ा के यूट्यूब चैनल पर बताया कि मिड 2000 में उन्हें भारत के अगले विकेटकीपर-बल्लेबाज के तौर पर देखा जा रहा था. लेकिन धोनी आए और उन्होंने अपनी जगह पक्की कर ली. हालांकि, उसके बाद भी कार्तिक को बल्लेबाजी के दम पर टीम में जगह मिलती रही.

साल 2007 में इंग्लैंड में हुई टेस्ट सीरीज में बल्लेबाजी के कारण ही कार्तिक से ओपन कराया गया था. इस सीरीज के दौरान ही एमएस धोनी और राहुल द्रविड़ ने उन्हें मोटिवेट किया था और बैटिंग स्किल पर फोकस करने के लिए कहा था. कार्तिक ने ये किस्सा शेयर करते हुए कहा,

‘मैं चीजों के बारे में ज्यादा सोचता नहीं हूं. मेरा नेचर हमेशा से यही रहा है कि अब आगे क्या करना है. मेरा खुद से लगातार यही सवाल होता है. उस समय मिडिल ऑर्डर और ओपनिंग में जगह खाली थी. धोनी ने मुझसे कहा था कि तुम बहुत टैलेंटेड हो और ओपन कर सकते हो. इससे मुझे काफी कॉन्फिडेंस मिला.

राहुल द्रविड़ ने मुझसे कहा कि तुम्हारे अंदर एक प्योर बल्लेबाज बनने की पूरी क्षमता है. इसलिए मैंने डोमेस्टिक क्रिकेट में जाकर काफी रन बनाए और मौका मिलने पर एक ओपनर के तौर पर शानदार प्रदर्शन किया.’

अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कार्तिक ने कहा, ‘जब धोनी आए, तो उन्होंने पूरे देश में अपना नाम बना लिया. मुझे पता था कि विकेटकीपर- बल्लेबाज बनने के दरवाजे बंद हो गए हैं. कीपर-बल्लेबाज हमेशा एक दशक लंबा काम होता है. सैयद किरमानी थे, फिर किरण मोरे. धोनी एक पीढ़ी में एक बार आने वाले खिलाड़ी थे. इयान हीली या एडम गिलक्रिस्ट को लें, अगर आप एक अच्छे कीपर हैं, तो आप 10-12 साल तक वहां रहेंगे. ‘

बताते चलें कि भारत ने 2007 की इस टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड को हराया था. तीन मैचों की इस सीरीज में दो मैच ड्रॉ हुए थे जबकि एक मैच भारत ने अपने नाम किया था. दिनेश कार्तिक ने इस सीरीज में भारत के लिए सबसे ज्यादा, 263 रन बनाए.

No comments