Breaking News

कांगड़ा का बीएसएफ जवान शहीद, नम आंखों के साथ बेटी ने दी चिता को मुखाग्नि

कांगड़ा का बीएसएफ जवान शहीद, नम आंखों के साथ बेटी ने दी चिता को मुखाग्नि

कांगड़ा. हिमाचल का बीएसएफ जवान शहीद हो गया है. सोमवार को रूढ़ियों और परंपराओं को छोड़ बड़ी बेटी ने अपने पिता को मुखाग्नि दी और इस पल का साक्षी पूरा गांव बना, जिन्होंने नम आंखों से सैनिक को श्रद्धांजलि अर्पित की. कांगड़ा के ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र के जटलाहड़ के एक सैनिक की पश्चिम बंगाल में हृदयगति रुक जाने से मौत हो गई थी. सोमवार को उनका पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव जटलाहड़ फकलोह ज्वालामुखी राजकीय सम्मान के साथ सैनिकों द्वारा पहुंचाया गया. एसडीएम ज्वालामुखी मनोज ठाकुर द्वारा सैनिक को श्रद्धांजलि अर्पित की गई. गांव के प्रधान, उपप्रधान, सदस्य व अधिकारियों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की.

जब सैनिक का पार्थिव शरीर उनके घर पहुंचाया गया तो परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल था और पत्नी तो बेहोश भी हो गयी. विधि विधान सहित राजकीय सम्मान के साथ सैनिक का अंतिम संस्कार किया गया और बड़ी बेटी ने पिता को मुखाग्नि दी. फौजियों ने श्मशान घाट में गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया और हवाई फायर किए गए. सैनिक को अंतिम विदाई देने के लिए पूरे गांव के लोग श्मशान घाट पहुंचे और सभी ने नम आंखों से उन्हें अंतिम विदाई देते हुए श्रद्धाजलि अर्पित की.

कांगड़ा का बीएसएफ का जवान शहीद हुआ है.

प. बंगाल में थे तैनात सैनिक नंद किशोर की उम्र 53 वर्ष थी. नंद किशोर पश्चिम बंगाल में सेना में तैनात थे. सूचना के मुताबिक नंद किशोर की ड्यूटी के दौरान ह्रदय गति रुकने से मृत्यु हो गयी थी, जिसके बाद उनका आज पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव जटलाहड़ पहुंचाया गया और उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार ज्वालामुखी- नादौन राष्ट्रीय राजमार्ग पर दिल्ली कान्वेंट स्कूल के सामने बने श्मशान घाट पर किया गया. नंद किशोर अपने पीछे पत्नी व तीन बेटियां छोड़ गए हैं.

No comments