Breaking News

अपने बच्चे को टिफिन में ये चीज देने से पहले एक बार जरूर सोच ले

अपने बच्चे को टिफिन में ये चीज देने से पहले एक बार जरूर सोच ले

हम कई बार कई विज्ञापनों और आयुर्वेद में ये पढ़ते है, कि फल खाना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है. जी हां फल खाने की नसीहत तो हमें बचपन से ही दी जाती है. हालांकि आज के समय में बच्चो को फलो से ज्यादा पिज्जा, बर्गर, चाट पापड़ी आदि सब चीजे खाना ज्यादा पसंद है. शायद यही वजह है कि आज कल लोगो का पेट दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है. मगर आज हम आपको एक ऐसी खबर के बारे में बताने जा रहे है, जिसके बारे में जानने के बाद आप सच में फल खाना छोड़ देंगे. जी हां आपको जान कर ताज्जुब होगा कि फल खाने के चक्कर में ही एक बच्चे की जान जाते जाते बची है. यक़ीनन आप भी ये पढ़ कर हैरान रह गए होंगे, लेकिन ये सच है.

जी हां हमें यकीन है कि शॉर्टकट में आपको ये मामला समझ में नहीं आएगा, इसलिए हम इस मामले के बारे में आपको विस्तार से समझाते है. गौरतलब है कि ये मामला सोशल मीडिया के द्वारा लोगो के सामने आया है. दरअसल एक ऑस्ट्रेलियन महिला जिसका नाम एंजेला हेंडरसन है, वो ब्लॉग लिखती है. जी हां वो फ़िनली एंड मी के नाम से ब्लॉग लिखती है. बता दे कि इस ब्लॉग को उन्होंने फेसबुक की जनता के लिए अवेलेबल करवाया हुआ है. बरहलाल इसी सोशल साइट पर एक पोस्ट डाल कर उन्होंने इस मामले की जानकारी दी है. दरअसल मामला ये है कि अपने पांच साल के बच्चे को अंगूर के गुच्छे में उलझा कर वो खुद किसी दूसरे काम में उलझ गई थी.

ऐसे में वो बच्चा भी गटागट अंगूर खा रहा था. हालांकि थोड़ी देर बाद जब बच्चे की माँ वापिस आयी तो उसने देखा कि बच्चा काफी परेशान नजर आ रहा है. जी हां माँ ने देखा कि उसके बच्चे को साँस लेने में दिक्क्त हो रही है. ऐसे में बच्चे की माँ फ़ौरन उसे अस्पताल ले गई और वहां उसका एक्स रे करवाया. अब ये तो सब को मालूम है कि अंगूर का टेक्सचर एकदम स्मूथ होता है, जो आसानी से फिसल जाता है. ऐसे में बच्चे को अंगूर खाने में काफी मजा आ रहा था और वो जल्दी जल्दी उसे खाता गया.

जी हां दरअसल बच्चा बिना चबाएं ही अंगूर खाता चला गया. ऐसे में इसी जल्दबाजी में एक अंगूर उसकी विंड पाइप में फंस गया. जिसके चलते उसे साँस लेने में दिक्क्त होने लगी. हालांकि बच्चे का एक्स रे करने के बाद डॉक्टर को पूरा मामला समझ आ गया था. जिसके बाद बच्चे का ऑपरेशन करके ही उसके गले से वो अंगूर निकाला गया. अब यूँ तो इस पूरे मामले को पढ़ कर आपको यही लग रहा होगा, कि ये किसी के साथ भी हो सकता है और ज्यादा बड़ा इंसिडेंट नहीं है.

मगर आपको जान कर ताज्जुब होगा कि ऑस्ट्रेलिया में हर साल नौ साल से कम उम्र के बच्चो के गले में कुछ फंस जाने के कारण अब तक करीब ढाई सौ बच्चो की जान जा चुकी है. यही वजह है कि एंजेला ने भी अपनी फेसबुक पोस्ट के जरिए लोगो को ये सलाह दी कि हर बच्चा खाना चबा कर नहीं खाता है और ये गलत है. उन्होंने ये भी लिखा है कि बच्चे को कभी खाने के लिए टिफन में या खेलने के लिए कोई ऐसी चीज न दे, जो वो सीधा निगल जाए या फिर उन्हें ये सारी चीजे छोटे छोटे टुकड़ो में काट कर दे.

बरहलाल इस जानकारी को पढ़ने के बाद हर किसी को इससे सबक लेना चाहिए, क्यूकि ये हादसा वास्तव में कभी भी किसी के साथ भी हो सकता है. इसलिए बच्चो को लेकर हमेशा सावधान रहे.

No comments