Breaking News

हिमाचल: घास काटते समय मां-बेटी पर रंगड़ों ने किया हमला, जान बचाने के लिए भागी तो सही लेकिन नही बच सकी जान

हिमाचल: घास काटते समय मां-बेटी पर रंगड़ों ने किया हमला, जान बचाने के लिए भागी तो सही लेकिन नही बच सकी जान

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिला में दुखद घटना हुई। यहां पर रंगड़ों के हमले से बचने के लिए भागी मां-बेटी की खाई में गिरने से मौत हो गई है। इस हादसे में दोनों से मौके पर ही दम तोड़ दिया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों शवों को कब्जे में लेकर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्रशासन की ओर से पीड़ित परिवार को 30 हजार रुपए की फौरी राहत भी प्रदान की गई है।

जानकारी के अनुसार यह हादसा बुधवार को भदड़ोता के पास हुआ। बताया जा रहा है कि जब वह पहाड़ी पर घास काट रही थी तो अचानक ही उन पर रंगड़ो ने हमला कर दिया। दोनों ने अपने आप को बचाने के लिए वहां से दौड़ लगाई और इस भागमभाग में वह खाई में गिर गई। जिससे उनकी जान चली गई। हादसे में मरने वाली महिला की पहचान तृप्ता आयु 32 साल पत्नी मानसिंह और पुत्री ईशा 16 साल पिता मान सिंह निवासी खड़ियाला के रूप में हुई है।

बेटी को बचाने के चक्कर में मां कभी पैर फिसला और खाई में गिरी 
बताया जा रहा है कि रंगड़ों से बचने के लिए जब दोनों भाग रही थी तो अचानक ही ईशा का नियंत्रण बिगड़ गया और वह खाई में गिरने लगी। जब उसकी मां ने उसे बचाने का प्रयास किया तो उसका भी नियंत्रण बिगड़ गया और दोनों मां बेटी 200 मीटर गहरी खाई में जा गिरी है। आसपास के लोगों ने तुरंत दोनों को खाई से बाहर निकाला और अस्पताल पहुंचाया। जहां तृप्ता को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि ईशा की इलाज के दौरान मौत हो गई।

पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए पहुंचाया तीसा अस्पताल घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने मां बेटी के शव को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल तीसा पहुंचाया। पोस्टमार्टम कराने के बाद शवों को परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया है। तहसीलदार पवन ठाकुर ने बताया प्रशासन की ओर से पीड़ित परिवार को 30 हजार रुपए की फौरी राहत दी गई है। औपचारिकता पूर्ण कराने राहत राशि भी पीड़ित परिवार को मुहैया करवाई जाएगी।

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

No comments