Breaking News

मैदान पर उतरते ही इतिहास रचेंगे धोनी और ऋषभ पंत, ऐसा करने वाले पहले कप्तान बनेंगे

दिल्ली कैपिटल्स और चेन्नई सुपर किंग्स की टीम अबतक आईपीएल के इतिहास में 25 बार एक दूसरे के सामने मैदान पर उतरी हैं। इस दौरान धोनी के शूरवीरों ने 15 बार दिल्ली को धूल चटाई है, जबकि 10 मैचों में दिल्ली ने जीत हासिल की है। यानी ओवरऑल रिकॉर्ड की माने तो माही की टीम फाइनल में पहुंचते हुई दिखाई दे रही है। हालांकि, दिल्ली कैपिटल्स ने इस सीजन अपने पहले ही मैच में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम को 7 विकेट से हार का स्वाद चखाया था, जबकि दूसरी भिड़ंत में ऋषभ पंत के गेंदबाजों ने दिल्ली को 3 विकेट से जीत दिलाई थी। लेकिन, चेन्नई के पास प्लेऑफ में खेलने का अच्छा खास अनुभव मौजूद है और वह सिर्फ एक बार ही अंतिम चार में अपनी जगह बनाने से चूकी है।

आईपीएल 2021 के पहले क्वालीफायर में रविवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में दिल्ली कैपिटल्स का सामना चेन्नई सुपरकिंग्स से होगा। मैच में चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत के पास बतौर कप्तान इतिहास रचने का मौका होगा। पंत जैसे ही टॉस के लिए मैदान पर उतरेंगे, वह बतौर कप्तान आईपीएल का प्लेऑफ मुकाबला खेलने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन जाएंगे। पंत आईपीएल प्लेऑफ के इतिहास में किसी टीम की कप्तानी करने वाले सबसे युवा कप्तान बन जाएंगे। पंत 24 साल और 6 दिन के हैं। इससे पहले यह रिकॉर्ड उनके ही टीम के साथी श्रेयस अय्यर के नाम था। अय्यर 25 साल 10 महीने 29 दिन में आईपीएल प्लेऑफ खेलने वाले कप्तान बने थे।

वहीं, धोनी टॉस के लिए मैदान पर उतरते ही प्लेऑफ मुकाबले में किसी टीम की कप्तानी करने वाले 40 वर्ष से ज्यादा दूसरे खिलाड़ी बन जाएंगे। उनसे पहले राहुल द्रविड़ 2013 में यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं। धोनी अपनी कप्तानी में चेन्नई को तीन बार चैंपियन बना चुके हैं। उनकी टीम पिछले साल आईपीएल के इतिहास में पहली बार नॉकआउट में प्रवेश करने से चूक गई थी। चेन्नई को आईपीएल 2021 में दिल्ली के खिलाफ पिछले दो मैचों में हार मिल चुकी है। दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान पंत अगर आज यह मुकाबला जीत जाते हैं तो वह आईपीएल के फाइनल में पहुंचने वाले सबसे युवा कप्तान बन जाएंगे। वहीं, अगर धोनी आज का मुकाबला जीत जाते हैं तो वह आईपीएल फाइनल में पहुंचने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बन जाएंगे।

दिल्ली कैपिटल्स और चेन्नई सुपर किंग्स की टीम अबतक आईपीएल के इतिहास में 25 बार एक दूसरे के सामने मैदान पर उतरी हैं। इस दौरान धोनी के शूरवीरों ने 15 बार दिल्ली को धूल चटाई है, जबकि 10 मैचों में दिल्ली ने जीत हासिल की है। यानी ओवरऑल रिकॉर्ड की माने तो माही की टीम फाइनल में पहुंचते हुई दिखाई दे रही है। हालांकि, दिल्ली कैपिटल्स ने इस सीजन अपने पहले ही मैच में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम को 7 विकेट से हार का स्वाद चखाया था, जबकि दूसरी भिड़ंत में ऋषभ पंत के गेंदबाजों ने दिल्ली को 3 विकेट से जीत दिलाई थी। लेकिन, चेन्नई के पास प्लेऑफ में खेलने का अच्छा खास अनुभव मौजूद है और वह सिर्फ एक बार ही अंतिम चार में अपनी जगह बनाने से चूकी है।

No comments