Breaking News

हार्ट अटैक आने से 1 महीने पहले ही शरीर देने लगता है ये संकेत, ऐसे पहचाने इन संकेतों को

हार्ट अटैक आने से 1 महीने पहले ही शरीर देने लगता है ये संकेत, ऐसे पहचाने इन संकेतों को

अनियमित खान-पान और बेतरतीब लाइफ स्टाइल के कारण हमारा शरीर कई तरह के रोगों का घर बन चुका है। इन्ही में से एक खतरनाक बीमारी है हार्ट अटैक यानि दिल का दौरा पड़ना। हार्ट अटैक किसी को भी आ सकता है। बदलते वातावरण और लाइफ स्टाइल के कारण इसका सबसे ज्यादा खतरा 30 पार कर चुके युवाओं को है। कई बार दिल का दौरा पड़ने पर इंसान की उसी वक्त मृत्यु भी हो जाती है और कई बार आदमी बच भी जाता है।

हमारा शरीर किसी भी बीमारी की शुरूआत होने पर हमे सिग्नल देने लगता है। यहाँ तक कि हार्ट अटैक के केस में भी हमारा शरीर महीनों पहले से हमे सिग्नल देने लगता है लेकिन हम इन सिग्नलों को या तो समझ नही पाते या फिर साधारण बीमारी समझ कर अनदेखा कर देते हैं। यही कारण है कि जब मामला बहुत ज्यादा गंभीर हो जाता है तब हम कुछ करने लायक नही रह जाते।

क्यों आता है हार्ट अटैक सबसे बड़ा सवाल ये है कि हमे हार्ट अटैक क्यों आता है। ये जानने के लिए पहले हमे अपने हार्ट की कार्यप्रणाली को समझना होगा। हमारा हार्ट शरीर मे मौजूद रक्त को प्यूरीफाई करने का काम करता है। शरीर में मौजूद रक्त दूषित होकर जब हार्ट तक पहुँचता है तो हमारा हार्ट उस रक्त में से गंदगी को अलग को कर देता है और साफ रक्त को वापस शरीर में भेज देता है। ये क्रिया निरंतर चलती रह्ती है।

अनियमित खान-पान और गलत लाइफस्टाइल के कारण हमारे शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढने लगती है और ये बैड कोलेस्ट्रॉल हमारे दिल की धमनियों में जाकर जमा होने लगते हैं जिससे ब्लड ठीक से दिल तक नही पहुँच पाता है। पर्याप्त मात्रा में रक्त के दिल तक नही पहुँचने के कारण दिल को ऑक्सीजन की सप्लाई बाधित होने लगती है जिसकी भरपाई के लिए हमारा हार्ट मस्तिष्क या दूसरे जगहों से ऑक्सीजन लेने के लिए जोर लगाता है।

ऑक्सीजन के लिए जोर लगाने के कारण हमारे छाती के बायें साइड (दिल के साइड) में दर्द भी होता है जिसे साधारण दर्द समझकर हम नजरअंदाज कर देते हैं। जब धमनियां पूरी तरह से जाम हो जाती है और दिल तक ऑक्सीजन की सप्लाई बिल्कुल कम हो जाती है तब हमारा दिल शरीर के कुछ हिस्सों की गतिविधियां रोक देता है। ऐसे समय में ही हमे दिल का दौरा पड़ता है।

हार्ट अटैक आने से पहले हमारा दिल देता है ये संकेतदिल का दौरा पड़ने के लक्षण स्त्री और पुरूष दोनों में एक समान होते हैं। आइये जानते हैं इन लक्षणों के बारे में।

1) शरीर के ऊपरी हिस्से में दर्द या बेचैनी जिस व्यक्ति को हार्ट की समस्या होती है उसको कुछ समय पहले से हीं उसके शरीर में दर्द शुरू होने लगता है विशेषकर शरीर के ऊपरी हिस्से जैसे कंधे, पीठ, जबड़े या शरीर के अन्य ऊपरी भाग में दर्द की शिकायत होने लगती है। इस तरह के दर्द लगातार होने पर इसे कभी नजरअंदाज ने करें।

2) अचानक छाती के बायीं ओर दर्द दिल का दौरा पड़ने का सबसे स्पष्ट लक्षण है छाती में बाईं और या मध्य भाग में अचानक दर्द होना। हालांकि यह दर्द कुछ हीं मिनटों में खत्म भी हो जाता है जिस कारण लोग इसे सामान्य दर्द या गैस के कारण होने वाला दर्द भी समझ लेते हैं। लेकिन इस दर्द में छाती में भारीपन या दबाव जैसा महसूस होता है। अगर आपको भी इस तरह का दर्द होता रहता है तो अपने दिल का ईसीजी टेस्ट जरूर कराएं।

3) चक्कर आना जब समस्या ज्यादा बढ जाती है तो व्यक्ति को थोड़ी-थोड़ी देर पर चक्कर आने लगता है या फिर आँखों के अँधेरा छाने लगता है। यह हार्ट अटैक का शुरूआती लक्षण हो सकता है इसलिए ऐसी स्थिति में लापरवाही न बरते बल्कि तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर को दिखाएं।

इसे भी पढें: इन 5 तरह के लोगों को होता है हार्ट अटैक का सबसे ज्यादा खतरा, रखें ऐसी सावधानी

4) पसीना आने के साथ ठण्ड लगना अगर आपको ज्यादा पसीना आ रहा है और उसके साथ ठण्ड भी लग रही है तो यह दिल का दौरा पड़ने के लक्षण है। ऐसे में बिना देरी किए नजदीकी डॉक्टर को दिखाएं।

5) साँस फूलना या साँस की गति कम या अधिक हो जाना सामान्य तौर पर थोड़ी सीढियां चढ लेने या थोड़ा दौड़ने के कारण व्यक्ति की साँस फूल जाती है। लेकिन अगर थोड़ा दूर चलने या जरा सा काम करने पर भी आपका साँस फूलने लगे तो इसे हल्के में मत लीजिए। अगर साँस फूलने के बाद सीने में तेज दर्द होने लगे तो इसका मतलब अब आपको जल्दी से जल्दी डॉक्टर के पास जाना चाहिए और अपने दिल का चेक अप करवाना चाहिए।

No comments