Breaking News

नवरात्रि के दौरान क्या करें और क्या न करें, मां दुर्गा के हवन में इन चीजों के इस्तेमाल से अलग-अलग फलों की होती है प्राप्ति

नवरात्रि के दौरान क्या करें और क्या न करें, मां दुर्गा के हवन में इन चीजों के इस्तेमाल से अलग-अलग फलों की होती है प्राप्ति

आदि शक्ति मां जगदंबा की परम कृपा प्राप्त करने के लिए दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में रह रहे हिंदू धर्म के लोग साल में दो बार नवरात्रि का महापर्व मनाते हैं. चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को वसंत और आश्विन शुक्ल प्रतिपदा को शारदीय नवरात्रि को पूरी श्रद्धा, भक्ति और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. शारदीय नवरात्रि की आज छठी तिथि है. आज के दिन मां दुर्गा के छठे स्वरूप मां कात्यायनी की पूजा-अर्चना की जाती है.

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि लाल रंग मां को बहुत प्रिय है. इसलिए मां को प्रसन्न करने के लिए पूजा-अर्चना में हमेशा लाल रंग की वस्तुओं जैसे- मां के वस्त्र, आसन, फूल इत्यादि का ही उपयोग करना चाहिए. नवरात्रि के दौरान रोजाना सुबह और शाम को दीपक प्रज्जवलित कर आरती और भजन करें. संभव हो तो वहीं बैठकर मां का पाठ, सप्तशती और दुर्गा चालीसा का भी पाठ करें.

नवरात्रि के दौरान क्या करें
नवरात्रि में ब्रह्मचर्य का पालन करें.
नवरात्रि के दौरान खाने में लहसुन-प्याज का उपयोग न करें.
सामान्य नमक की जगह सेंधा नमक उपयोग में लाएं.
सूर्योदय से पहले जाग जाएं और दिन में कतई न सोएं.
साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें.
नवरात्रि मे व्रत रखने वाले भक्त जमीन पर ही सोएं.
नवरात्रि के अंतिम दिन कुंवारी कन्याओं को घर बुलाकर भोजन अवश्य कराएं. नव कन्याओं को नव दुर्गा रूप मानकर उनका पूजन करें और आवभगत करें.
नवरात्रि के दिनों मे हर एक व्यक्ति खासकर व्रतधारी को क्रोध, मोह, लोभ आदि दुष्प्रवृत्तियों का त्याग करना चाहिए.

अष्टमी-नवमी पर विधि-विधान से कंजक पूजन करें और उनसे आशीर्वाद जरूर लें.
नवरात्रि के आखिरी दिन पूरी श्रद्धा और भक्ति भाव से मां की विदाई यानि विसर्जन करें.
नवरात्रि व्रत के दौरान क्या नहीं करें

नवरात्रि में दाढ़ी-मूंछ, बाल आदि नहीं कटवाने चाहिए.
अखंड ज्योति जलाने वालों को नौ दिनों तक अपना घर खाली नहीं छोड़ना चाहिए.
पूजा के दौरान किसी भी तरह की बेल्ट, चप्पल-जूते या फिर चमड़े की बनी चीजें नहीं पहननी चाहिए.
काले रंग का कपड़ा वर्जित करें क्योंकि यह रंग शुभ नहीं माना जाता है.
मांस, मछली, नशीले पदार्थ जैसे शराब, गुटखा, सिगरेट आदि का सेवन नहीं करना चाहिए.
नवरात्रि के पावन दिनों में किसी का दिल न दुखाएं और न ही किसी से झूठ बोलें.
नौ दिन तक व्रत रखने वाले को शव के पास नहीं जाना चाहिए.

नवरात्रि के दौरान शारीरिक संबध बनाने से बचें.
दुर्गा आराधना के लिए किस चीज से हवन करने से क्या फल मिलता है
जायफल से हवन करने से कीर्ति की प्राप्ति होती है.
किशमिश से कार्य की सिद्धि होती है.
आंवले से सुख की प्राप्ति होती है.
गेहूं से हवन करने से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है.
खीर से परिवार-वृद्धि, चंपा के पुष्पों से धन और सुख की प्राप्ति होती है.
आंवले से कीर्ति और केले से पुत्रप्राप्ति होती है.
कमल से राज सम्मान की प्राप्ति होती है.
खांड, घी, नारियल, शहद, जौ, तिल तथा फलों से मनवांछित वस्तु की प्राप्ति होती है.

No comments