Breaking News

ऐसे कार्य करने वालों के यहां से रूठकर चली जाती हैं मां लक्ष्मी, करना पड़ता है गरीबी का सामना

ऐसे कार्य करने वालों के यहां से रूठ कर चली जाती हैं मां लक्ष्मी, करना पड़ता है गरीबी का सामना

जहां कुछ लोगों की आय सीमित होने पर भी उनके घर में सुख-समृद्धि का वास होता है तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिनके घर में पर्याप्त धन स्तोत्र होने के बाद भी दरिद्रता बनी रहती है। तमाम प्रयासों के बाद भी उनके घर में बरकत नहीं होती है। क्या आपको पता है कि इसके पीछे का कारण स्वयं की गलत आदतें और कुछ कार्य होते हैं। माना जाता है कि जिन घरों में ये कार्य होते हैं, वहां से मां लक्ष्मी रुष्ट होकर चली जाती हैं और उनके घर में दरिद्रता का वास होने लगता है। ऐसे लोगों को गरीबी का सामना करना पड़ता है। इसलिए भूलकर भी ये कार्य नहीं करने चाहिए। तो चलिए जानते हैं कि कौन से हैं वे कार्य।

जहां होता है पति-पत्नी में विवाद जिन घरों में सदैव पति-पत्नी के बीच झगड़ा होता है और अशांति का माहौल बना रहता है और परिवार के सदस्य एक दूसरे से ऊंचे व अपमानजनक शब्दों में वार्तालाप करते हैं, वहां से मां लक्ष्मी रूष्ट होकर चली जाती हैं। पति-पत्नी व परिवार के सभी सदस्यों को सदैव एक दूसरे से सम्मान पूर्वक आचरण रखना चाहिए। अन्यथा ऐसे घरों में कभी बरकत नहीं होती है।

जिस घर में होता है बुजुर्गों और नारी का अपमान हिंदू धर्म में नारी को लक्ष्मी और अन्नपूर्णा कहा गया है। कहा जाता है कि जहां पर नारी का सम्मान होता है, वहां स्वयं देवी-देवता निवास करते हैं। ऐसे घरों में किसी प्रकार से धन की कमी नहीं होती है लेकिन जहां पर स्त्रियों का सम्मान नहीं किया जाता है वहां से मां लक्ष्मी रूठकर चली जाती हैं। बड़े बुजुर्ग घर की नींव होते हैं। जिन घरों में बुजुर्गों का सम्मान नहीं किया जाता। जहां पर बड़े बुजुर्ग आंसू बहाते हैं। कहा जाता है कि ऐसे घरों में कभी भी सुख और संपन्नता का वास नहीं होता है।

घर आए भिक्षुक का अनादर प्रत्येक धर्म में दान का विशेष महत्व बताया गया है। सनातन धर्म में भी दान का बहुत महत्व माना जाता है। यदि द्वार पर कोई जरुरतमंद व्यक्ति या भिक्षुक आए तो भूलकर भी उसका अपमान नहीं करना चाहिए। जिन घरों में निसहाय और निर्धन लोगों का साथ बुरा व्यवहार किया जाता है। माना जाता है कि वहां पर कभी ईश्वर की कृपा नहीं होती है और ऐसे लोगों के घरों में दरिद्रता और दुखों का वास होता है।

प्रतिदिन देर तक सोना-
सनातन धर्म में प्रातः जागने के लिए ब्रह्म मुहूर्त श्रेष्ठ बताया गया है। जिन घरों में लोग सूर्योदय के बाद भी देर तक सोते रहते हैं और संध्या को सूर्यास्त के समय सोते हैं और ईश्वर का स्मरण नहीं किया जाता है, वहां पर दरिद्रता का वास होता है। ऐसे लोगों को जीवन में धन संबंधित समस्याओं और अशांति का सामना करना पड़ता है।

गलत कार्यों से कमाया गया धन- आज को भौतिकवादी युग में लोग किसी भी प्रकार से पैसा कमाना चाहते हैं। इसी चाहत में कई बार लोग गलत कार्यों से भी धन कमाने लगते हैं, लेकिन जो लोग गलत कार्यों और दूसरों को सताकर धन कमाते हैं, माना जाता है कि मां लक्ष्मी उनसे नाराज हो जाती हैं और ऐसे कमाया गया धन बहुत ही जल्द नष्ट हो जाता है।


No comments