Breaking News

हर साल दिवाली का त्योहार कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है

हर साल  दिवाली का त्योहार कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है

हर साल दिवाली का त्योहार कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है। इस बार दिवाली का पावन पर्व 04 नवंबर को मनाया जाएगा। दिवाली धन-समृद्धि प्रदान करने वाला त्योहार है। इस दिन धन-ऐश्वर्य की देवी मां लक्ष्मी का आवाहन व पूजन किया जाता है, इसके अलावा दिवाली को कार्य सिद्धि के लिए बहुत ही शुभ रात्रि माना जाता है। मान्यता के अनुसार, यदि दिवाली की रात में कोई अनुष्ठान, मंत्र जाप किया जाए तो वह अवश्य ही सिद्ध होता है और शीघ्र ही फल की प्राप्ति होती है। यही कारण हैं कि तंत्र साधना करने वाले लोग दिवाली की रात्रि को बहुत महत्वपूर्ण मानते हैं। मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए लोग दिवाली के दिन बहुत से पूजन अनुष्ठान करते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि एक ऐसा पाठ भी है जिसे यदि दिवाली पर रात्रि में पूरी निष्ठा के साथ किया जाए तो आप हर विघ्न-बाधा से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं। इस पाठ को बेहद चमत्कारिक माना जाता है। यदि इस पाठ को पूरी श्रद्धा और निष्ठा के साथ किया जाए तो आपको समस्याओं से तो मुक्ति मिलती ही है आपको धन और सौभाग्य की प्राप्ति भी होती है। तो चलिए जानते हैं कौन सा है वह पाठ और क्या हैं इसे करने के फायदे।

दिवाली 2021 इसे श्री सिद्धकुंजिका स्त्रोतम के नाम से भी जाना जाता है। यह स्तोत्र अत्यंत चमत्कारिक माना गया है। इसके सभी मंत्र स्वतः सिद्ध हैं, इन्हें अलग से सिद्ध करने की आवश्यकता नहीं होती है। इसका पाठ करने से सप्तशती पाठ करने के समान फल की प्राप्ति होती है। जो व्यक्ति नियमित रूप से सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ करता उसके जीवन के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। मां दुर्गा का ये पाठ मनोकामना पूर्ति के लिए अत्यंत उत्तम माना गया है। यदि संकट के समय में इस स्तोत्र का वाचन किया जाए तो सभी कष्टों से मुक्ति प्राप्त होती है

 ग्रह बाधा से मिलती है मुक्ति ग्रहों के अशुभ प्रभाव से मुक्ति भी प्राप्त करने के लिए भी सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ अति उत्तम माना जाता है। इस पाठ को करने से ग्रहों के कारण आपकी व्यापार, नौकरी आदि में आने वाली समस्याएं दूर होती हैं व आपकी आर्थिक स्थिति को मजबूती मिलती है। इसी के साथ इस पाठ को करने से जातक को वाणी और मन की शक्ति भी प्राप्त होती है।

होती है मनोकामना पूर्ति कुंजिका स्तोत्र के पाठ के बारे में मान्यता है कि जो जातक नियमित रुप से इस स्तोत्र का पाठ करता है, उसके ऊपर सदैव मां भगवती की कृपा सदैव रहती है। उसे किसी अन्य प्रकार की पूजा करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। मां भगवती उसके सभी कष्टों को दूर कर देती हैं और जातक का कल्याण होता है? इस स्तोत्र का रोजाना पाठ करने से मनोकामना पूर्ति होती है।

सभी समस्याओं से मिलती है मुक्ति सिद्ध कुंजिका स्तोत्र के बारे में कहा जाता है कि जीवन में किसी भी प्रकार की समस्या चाहें वह (धन, नौकरी, व्यापार, स्वास्थय आदि) सभी समस्याओं से छुटकारा मिलता है, लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि इस पाठ को पूरे नियम और निष्ठा के साथ करना चाहिए।


No comments