Breaking News

अखबार बेचकर पढ़ाई की, B. Tech के बाद बने क्लास-A IFS अफसर

अखबार बेचकर पढ़ाई की, B. Tech के बाद बने क्लास-A IFS अफसर

मुश्किल हालातों में भी जिनके हौसले बुलंद होते है, वह तुफानो से लड़कर भी अपने मुकाम को प्राप्त करते हैं। आज हम बात करेंगे, एक ऐसे शख्स की, जिन्होंने मुसीबत हालातों में भी अखबार बेच अपनी पढ़ाई को जारी रखा और आज अपनी मेहनत और लगन के बदौलत IFS अधिकारी बन समाज मे एक नई मिसाल पेश की है।

कौन है वह शख्स?

हम बात कर रहे है, चेन्नई (Chennai) के कीलकट्टलाई के रहने वाले पी बालमुरुगन (IFS Officer P Balamurugan) की, जिनकी घर के आर्थिक हालात बिल्कुल ही सही नही थे। पिता को शराब की बुरी लत थी, जिसके कारण वह वर्ष 1994 में घर छोड़ कर चले गए। पिता के जाने के बाद आठ भाई-बहनों का पालन-पोषण करना उनकी माँ पलानीमल के लिए आसान नही था। हालात इतने दुर्लभ थे कि रहने के लिए घर नही था, तब माँ ने अपने गहने-जेबर बेच एक छोटा सा जगह खरीदा और उस पर एक घर को बनवाया, जिसकी छत फुस की थी। उनके मामा ने भी विपरीत परिस्थितियों में इनका पूरा सहयोग किया। 
3 सौ रुपये की नौकरी कर रखी पढ़ाई जारी

आपको बता दें कि, घर के हालात इतने खराब थे कि इन्होंने ( IFS Officer P Balamurugan) अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए 3 सौ रुपये पर नौकरी करना शुरू कर दिया और अपनी पढ़ाई का खर्च उठाने के लिए महज नौ साल की उम्र में न्यूज़ पेपर भी बेचना शुरू किया।


रोजाना अखबार पढ़ने से आई सिविल सेवा के लिए लगाव
पी बालमुरुगन (IFS Officer P Balamurugan) ने महज नौ साल की उम्र में अखबार बेचना शुरू कर दिया था तथा इसके सैलरी से स्कूल के फीस भी भरने लगे। अखबार बेचने के दौरान वह अखबार पढ़ने के शौकीन हो गए थे। अखबार से इतना लगाव हो गया था कि इन्होंने सिविल सर्विसेज में जाने का सपना सजा लिया। फिर इन्होंने अपनी बीटेक की पढ़ाई मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी चेन्नई (Madras Institute of Technology, Chennai) से पूरी की और कैंपस प्लेसमेंट के जरिये टीसीएस में जॉब जॉइन किया, जिसकी तनख्वाह लाखों में थी। फिर भी इनका झुकाव UPSC के तरफ था। जब इनके परिवार की बड़ी बहन ने जॉब करना शुरू कर दिया और घर मे पैसे आने लगे तो इन्होंने अपना जॉब छोड़ने का फैसला ले लिया और जॉब छोड़ UPSC की तैयारी करना शुरू कर दिया। ―Success Story of IFS Officer P Balamurugan.

चेन्नई में आईएएस अकैडमी में लिया दाखिला

जिस नौकरी (टीसीएस) को पी बालमुरुगन (IFS Officer P Balamurugan) ने इतने संघर्षों के बाद प्राप्त किया था UPSC के लिए उसको त्याग दिया और UPSC की तैयारी के लिए चेन्नई में शंकर IAS एकेडमी में दाखिला ले लिया। अपने मेहनत और निष्ठा के बदौलत उन्होंने UPSC के परीक्षा को क्रैक कर लिया और उनका चयन भारतीय वन सेवा में ईएफएस अधिकारी के पद पर हुआ। उनका कहना है कि, “अगर आपके मन मे कुछ पाने की चाहत है तो उसको पूरे मन से करो। भले ही आप भूखे सो जाओ लेकिन बिना पढ़े नही। लक्ष्य प्राप्ति के लिए बहुत से बलिदान देने होते है, कभी-कभी तो अपने सारे सुख-सुविधाओं का भी त्याग करना पड़ता है।” आज उनकी यह कहानी लोगों के लिए प्रेरणा बनी हुई है।

No comments