Breaking News

क्रिकेट इतिहास में पहली बार पिता-पुत्र के नाम विश्व कप खिताब जीतने की उपलब्धि, आस्ट्रेलिया ने रचा इतिहास

क्रिकेट इतिहास में पहली बार पिता-पुत्र के नाम विश्व कप खिताब जीतने की उपलब्धि, आस्ट्रेलिया ने रचा इतिहास

आइसीसी टी20 विश्व कप 2021 फाइनल कई मायने में यादगार बन चुका है। इस मुकाबले में आस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड की टीम को हराते हुए पहली बार खिताब अपने नाम किया। यह मैच एक और वजह से इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया। क्रिकेट इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ था जब पिता और पुत्र दोनों को ही अपने देश की तरफ से विश्व कप फाइनल जीतने में कामयाबी मिली।

रविवार 14 नवंबर को खेले गए इस मैच में न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए कप्तान विलियमसम के 85 रन की बदौलत 172 रन का स्कोर खड़ा किया था। जवाब में आस्ट्रेलिया ने दो विकेट गंवाकर 18.5 ओवर में लक्ष्य हासिल कर लिया। टी20 विश्व कप फाइनल में जिस एक खिलाड़ी ने टीम मुश्किल में फंसी टीम को निकाला वो मिचेल मार्श थे।

कप्तान आरोन फिंच के महज 5 रन पर आउट होने के बाद मैदान पर उतरे इस बल्लेबाज ने इस मैच में नाबाद 77 रन की पारी खेली। 6 चौके और 4 छक्के जड़ते हुए उन्होंने टीम को जीत तक पहुंचाया। इस शानदार प्रदर्शन के लिए उनको प्लेयर आफ द मैच चुना गया। कमाल की बात यह रही कि इससे पहले उनके पिता भी टीम की तरफ से एक फाइनल मैच खेल चुके थे।

पिता पुत्र को जोड़ी फाइनल खेलने का मौका


आपको यह जरूर सोच रहे होंगे कि मार्श के पिता फाइनल मैच में कब खेले थे। यहां हम ये बता दें कि मार्श क्रिकेट परिवार से हिस्सा रखते हैं। उनके बड़े भाई शान मार्श आस्ट्रेलिया के दिग्गज बल्लेबाज हैं। पिता ज्योफ मार्श ने आस्ट्रेलिया के लिए वो विश्व कप फाइनल खेला था जहां टीम को पहली बार जीत मिली।1987 में आस्ट्रेलिया ने 7 विकेट के मैच जीता था और ज्योफ इस मैच का हिस्सा थे। मिचेल ने टी20 विश्व कप में आस्ट्रेलिया को पहला खिताब जिताने में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने 77 रन की पारी खेली और टीम को 7 गेंद रहते ही जीत दिलाई।

No comments