Breaking News

NEET 2021: कोचिंग के लिए नहीं थे पैसे, YouTube व किताबों से तैयारी कर हासिल की सफलता

NEET 2021: कोचिंग के लिए नहीं थे पैसे, YouTube व किताबों से तैयारी कर हासिल की सफलता

मेहनती और होनहार लोगों के लिए किसी भी तरह की परेशानियां उनके सफलता की राह में सिर्फ एक कंकड़ हो सकती हैं, पहाड़ नहीं। इस बात को सच साबित किया है, बदरपुर की रहनेवाली रितिका ने। साल 2021 में नीट (NEET Results 2021) पास करने वाले कई छात्रों में सर्वोदय कन्या विद्यालय, मोलरबंद की रितिका भी शामिल हैं। रितिका ने बिना किसी निजी कोचिंग के इस परीक्षा में सफलता हासिल की।

माता-पिता ने गहने तक बेच दिए कोरोना महामारी के दौरान उनकी ऑनलाइन कक्षाओं और अध्ययन सामग्री तक कोई पहुंच नहीं थी। बदरपुर में अपने माता-पिता और दो छोटे भाइयों के साथ रहनेवाली रितिका के पास शुरू में मोबाइल फोन या इंटरनेट तक नहीं था। एक निजी कारखाने में कढ़ाई का काम करने वाले उनके पिता ने, लॉकडाउन के दौरान अपनी नौकरी खो दी।

एक इंटरव्यू में रितिका ने बताया, “हमने दाने-दाने के लिए संघर्ष किया और बचत किए गए पैसों से किसी तरह हमारा काम चला। लेकिन बारहवीं कक्षा में मेरे जुनून और अच्छे स्कोर (93%) को देखकर, मेरे माता-पिता ने जो गहने मेरी शादी के लिए बचाए थे, उसे बेचकर मुझे एक एंड्रॉइड फोन और किताबें खरीदकर दी।”

रितिका ने 500 अंक प्राप्त कर अनुसूचित जाति वर्ग के तहत 3,032 रैंक हासिल की। उन्होंने बताया, “मैं निजी कोचिंग का खर्च नहीं उठा सकती थी, इसलिए मैंने YouTube और किताबों से तैयारी करके यह परीक्षा पास की। मेरे प्रधानाचार्य व शिक्षकों ने मेरी बहुत मदद की। उन्होंने हर कदम पर मुझे प्रेरित किया और स्कूल की लाइब्रेरी का एक्सेस भी दिया।”

दिल्ली के CM ने दीं बधाइयां इस साल दिल्ली के स्कूलों के कुल 436 छात्रों ने नीट पास किया है। आंकड़ो के अनुसार, यमुना विहार से 51, पश्चिम विहार से 28, आईपी एक्सटेंशन से 16, लोनी रोड से 15, मोलरबंद से 15 और रोहिणी स्कूल से 14 छात्रों ने इस साल नीट पास किया है।

एसकेवी, मोलरबैंड (SKV, Molarband) के प्रिंसिपल सुजाता टमटा ने कहा, “मेरे स्कूल के पंद्रह छात्रों ने NEET के लिए क्वालीफाई किया है। पिछले साल, 42 छात्रों ने परीक्षा दी थी, लेकिन इस साल, कोविड-19 के कारण, हम कई छात्रों से संपर्क नहीं कर सके। क्योंकि कक्षाएं ऑनलाइन थीं और कई बच्चे माइग्रेट हो गए थे। इसके बावजूद, हमने कई छात्रों और पूर्व छात्रों को बुलाया, ताकि अन्य छात्रों का मार्गदर्शन हो और वे प्रेरित हो सकें। साथ ही, छात्रों के मार्गदर्शन और उनके संदेहों के समाधान के लिए टीचर्स हमेशा ऑफ़लाइन और ऑनलाइन बच्चों के साथ संपर्क में थे।

No comments