Breaking News

बजरंगबली के साथ करें पीपल देवता की पूजा, दूर होगी गरीबी, कदम चूमेगी सफलता

आज मंगलवार का दिन है। मंगलवार के दिन भगवान हनुमान जी की पूजा की जाती है तो वही ये दिन गणेश जी के लिए भी शुभ माना जाता है। इस दिन कुछ उपाय करने से कर्ज से मुक्ति मिलती है।
धन संपदा के साथ मन की शांति के लिए भी उत्तम माना जाता हैं। हनुमान जी कलयुग में सबसे सक्रिय देवताओं में से एक हैं। कहते हैं कि बजरंगबली की अराधना भक्तों के हर संकट को हर लेती है और उनके दुख-दर्द दूर हो जाते हैं। कहा जाता है कि इस दिन पीपल की पूजा करने से हर मनोकामना पूरी होती है वहीं हनुमानजी आपको मालामाल कर देते है।

इस विधि से करें पीपल की पूजा

अगर आप अपने जीवन में पैसों की तंगी, दरिद्रता को लेकर परेशान है तो चालीस दिनों तक किया जानेवाला यह उपाय आपको आपकी परेशानी से हमेशा के लिए छुटकारा दिला देगा।

आपको रोज सुबह या शाम के वक्त हनुमान जी के मंदिर में जाकर सरसों के तेल का दीया मिट्टी के दीपक में जलाना चाहिए। आप मंदिर में दीया जलाने के बाद कुछ देर तक वहां बैठे और हनुमान चालीसा का भी पाठ कर लें।

मंगलवार और शनिवार के दिन दीया जलाने के बाद सिंदूर तिलक जरूर लगाएं। 40 दिनों तक रोजाना इस उपाय को करने के बाद आपकी हर मनोकामना पूरी हो जाएगी और पैसे की किल्लत भी हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी। ध्यान रहें किसी भी दिन यह उपाय खंडित नहीं होना चाहिए। अन्यथा उसे फिर पहले दिन से शुरू करना होगा।

अगर आप अपनी मनोकामनाएं जल्‍द पूरा करना चाहते हैं तो पीपल की पूजा या फिर इसके पत्‍तों के कुछ चमत्कारी उपाय करें।

शनिवार को ब्रह्म मुहूर्त में उठकर नित्य कर्मों से निवृत्त होकर किसी पीपल के पेड़ से 11 पत्ते तोड़ लाएं।

पत्ते तोड़ते समय ध्यान रखें कि पत्‍ते कटे फटे न हों और न ही खंडित हों। इसके बाद इन पत्तों को साफ पानी या गंगाजल से धो लें। फिर कुमकुम, अष्टगंध और चंदन मिलाकर इन पत्‍तों पर श्रीराम का नाम लिखें।

मंगलवार के टोटके

इस दिन सुबह लाल गाय को रोटी देना शुभ है।

मंगलवार को हनुमान मंदिर में नारियल रखना अच्छा माना जाता है।

मंगलवार के दिन लाल वस्त्र, लाल फल, लाल फूल और लाल रंग की मिठाई श्री गणेश को चढ़ाने से मनचाही कामना पूरी होती है।

मंगलवार के दिन किसी देवी मंदिर में ध्वजा चढ़ा कर आर्थिक समृद्धि की प्रार्थना करनी चाहिए। पांच मंगलवार तक ऐसा करने से धन के मार्ग की सारी रूकावटें दूर हो जाएगी।

No comments