Breaking News

महिलाओं की तीन ऐसी समस्या जिनको जड़ से समाप्त कर देता है ये फूल, एक बार जरूर जाने

महिलाओं की तीन ऐसी समस्या जिनको जड़ से समाप्त कर देता है ये फूल, एक बार जरूर जाने

गुड़हल या जवाकुसुम वृक्षों के मालवेसी परिवार से संबंधित एक फूलों वाला पौधा है। इसका वनस्पतिक नाम है- हीबीस्कूस् रोज़ा साइनेन्सिस। इस परिवार के अन्य सदस्यों में कोको, कपास, भिंडी और गोरक्षी आदि प्रमुख हैं। यह विश्व के समशीतोष्ण, उष्णकटिबंधीय और अर्द्ध उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाया जाता है। गुडहल जाति के वृक्षों की लगभग 200–220 प्रजातियाँ पाई जाती हैं, जिनमें से कुछ वार्षिक तथा कुछ बहुवार्षिक होती हैं। साथ ही कुछ झाड़ियाँ और छोटे वृक्ष भी इसी प्रजाति का हिस्सा हैं। 

गुड़हल की दो विभिन्न प्रजातियाँ मलेशिया तथा दक्षिण कोरिया की राष्ट्रीय पुष्प के रूप में स्वीकार की गई हैं।आयुर्वेद के अनुसार गुड़हल का फूल शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है, खासतौर पर महिलाओं के लिए यह किसी वरदान की तरह है. इसमें विटामिन सी, मिनरल, आयरन, फाइबर और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते है, ये सभी तत्व शरीर से जुड़ी कई समस्याओं से राहत दिलाने का काम करते हैं, तो चलिए इसके फायदे और उपयोग करने के तरीके को जान लेते हैं।


1- कई महिलाओं को अनियमित पीरियड्स की समस्या होती है, ऐसे में गुड़हल की चाय बना कर पीने से फायदा मिलता है, साथ ही इसके बीज की 2 कलियों को 1 हफ्ता लगातार सुबह खाली पेट खाने से पीरियड के दर्द से राहत मिलती है।

2- गुड़हल के फूलों की पंखुड़ियों को पानी में उबालकर हर्बल टी बनाकर पीने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है, साथ ही ये कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकता है, जिससे दिल की बिमारियों का खतरा कम हो जाता है।

3- इसकी पत्तियों और फूल की पंखुड़ियों से पेस्ट बनाकर बालों पर लगाने से यह कंडीशनर का काम करता है, शैंपू के बाद इसका इस्तेमाल करने से बाल काले और डैंड्रफ से मुक्त होते है।

No comments