Breaking News

मंडी : PM ने याद की सेपू बड़ी, 5 में से 3 कैलाश हिमाचल में होने का जिक्र

मंडी : PM ने याद की सेपू बड़ी, 5 में से 3 कैलाश हिमाचल में होने का जिक्र

करीब 1ः40 बजे मंच पर संबोधन के लिए पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंडियाली में देवी-देवताओं का आशीर्वाद मांगा। साथ ही सेपू बड़ी व बदाना का जिक्र भी किया। शुरूआत में प्रधानमंत्री ने जय राम सरकार को सफलतापूर्वक चार साल पूरे करने पर बधाई दी। उन्होंने जनता को संबोधन में कहा कि इन चार सालों में आपने हिमाचल को तेजी से आगे बढ़ते देखा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले चार सालों मे कोविड से भी लड़ाई लड़ी गई, साथ ही विकास को भी गति दी गई। उन्होंने कहा कि चंबा व सिरमौर में मेडिकल काॅलेज स्थापित किए गए। कनैक्टिीविटी को बढ़ाने के लिए भी प्रयास जारी है। उन्होंने कहा कि विकास की प्रदर्शनियां देखकर मन अभिभूत हो गया। आज चार बड़े हाइड्रो इलैक्ट्रिकल प्रोजैक्टस के शिलान्यास व उदघाटन किए। इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

पीएम ने कहा कि श्री रेणुका जी हमारी आस्था का केंद्र है। भगवान परशुराम की इस भूमि से देश के लिए एक जलधारा निकलेगी। इस परियोजना से जो भी आय होगी, उसका बड़ा हिस्सा भी यहीं के विकास पर खर्च होगा। प्रधानमंत्री ने क


हा कि लोगों की जीवन शैली में सुधार लाने में बिजली की अहम भूमिका है। उन्होंने कहा कि बिजली के बगैर मोबाइल भी चार्ज नहीं हो सकता।

उन्होंने कहा कि पूरा विश्व इस बात की तारीफ कर रहा है कि कैसे भारत पर्यावरण को बचाकर विकास को नई गति प्रदान कर रहा है। उन्होंने कहा कि देश आज रिन्यूएबल एनर्जी के दोहन का प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि 2016 में ये लक्ष्य रखा था कि 2030 तक बिजली की 40 फीसदी खपत को रिन्यूएबल एनर्जी से प्राप्त कर लिया जाएगा। खुशी की बात है इसे नवंबर में पूरा कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक को लेकर भी सरकार गंभीर है। प्रधानमंत्री ने हिमाचल आने वाले पर्यटकों से भी आग्रह किया कि हिमाचल को स्वच्छ रखने में भूमिका निभाएं। उन्होंने कहा कि हिमाचल में टूरिज्म के साथ-साथ औद्योगिक विस्तार की भी आपार संभावनाएं हैं। सरकार इस दिशा में भी कार्य कर रही है।

पीएम ने कहा कि हिमाचल में फूड प्रोसेसिंग औद्योगिक इकाईयों की भी प्रबल संभावनाएं हैं। इसको लेकर भी डबल इंजन की सरकार निरंतर कार्य कर रही है। केमिकल मुक्त कृषि उत्पाद आज विशेष आकर्षण का केंद्र बन रहे है। हिमाचल ने प्राकृतिक खेती का रास्ता चुना है, जो खुशी की बात है। हिमाचल के किसान कैमिकलमुक्त खेती की और अग्रसर हैं। उन्होंने देश भर के किसानों को हिमाचल की तर्ज पर कार्य करने का आह्वान किया।

संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि हिमाचल वीरों की धरती है, अनुशासन की धरती है। यहां के घर-घर में देश की रक्षा करने वाले बेटे-बेटियां हैं। पूर्व फौजियों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वन रैंक-वन पैंशन को भी मंजूरी दी। उन्होंने कहा कि पंच पर्यटन व तीर्थाटन का एक संगम है। पांच कैलाशों में से तीन हिमाचल में हैं। इसके अलावा भी कई शक्तिपीठ हैं।प्रधानमंत्री ने कहा कि इस समय देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है तो हिमाचल पूर्ण राज्यत्व दिवस की स्वर्ण जयंती मना रहा है। लिहाजा, ये समय कुछ खास करने का है।प्रधानमंत्री ने भारत माता की जयघोष के साथ अपना संबोधन समाप्त किया।

उन्होंने कहा कि मंडी देवभूमि का एक ऐसा स्थान है, जिसे छोटी काशी कहा जाता है। उन्होंने कहा कि बड़ी काशी के सांसद आप है। उन्होंने कहा कि हाल ही मे व्यक्तिगत तौर पर काशी का बदला हुआ रूप देखा है। सीएम ने कहा कि पड्डल मैदान से उनकी काॅलेज की यादें जुड़ी हुई हैं।

मोदी ने बढ़ाया जयराम ठाकुर का कद…


रैली के दौरान उप चुनाव हारने की कोई टीस नहीं थी। करीब 35 से 40 मिनट के संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई मर्तबा जयराम सरकार का जिक्र किया। प्रधानमंत्री ने सीएम के अभिभाषण की कई बातों का समर्थन भी किया। रैली में साफ तौर पर ये जाहिर हुआ कि प्रधानमंत्री व केंद्रीय आलाकमान की हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पर पूरी अनुकंपा है। प्रधानमंत्री बार-बार जयराम सरकार को डबल इंजन वाली सरकार कहकर संबोधित करते रहे।

No comments