Breaking News

1 जनवरी 2022 को ये कार्य करने से प्राप्त होगी भगवान शिव और माता पार्वती की कृपा

1 जनवरी 2022 को ये कार्य करने से प्राप्त होगी भगवान शिव और माता पार्वती की कृपा

नए साल की शुरुआत बहुत ही शुभ संयोग के साथ हुई है. जहां एक तरफ आज शनि देव की कृपा पाने का खास अवसर हैं. दूसरी तरफ भगवान शिव का मासिक शविरात्रि का व्रत (Masik Shivratri Vrat) होने के कारण भक्तों को दोनों का आशीर्वाद लेने का विशेष अवसर प्राप्त हुआ है. पौष मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शविरात्रि (Paush Month Masik Shivratri 2022) का व्रत किया जाता है. इस बार संयोग से मासिक शिवरात्रि नए साल पर पड़ी है.

मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव (Lord Shiva) और माता पार्वती (Mata Parvati) की विधि-विधान के साथ पूजा करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है. साथ ही सुखी गृहस्थ जीवन की प्राप्ति होती है. कहते हैं कि मासिक शविरात्रि का व्रत (Masik Shivratri Vrat) भगवान शिव (Lord Shiva) को अति प्रिय है. ये व्रत करने से जहां भोलेनाथ की कृपा प्राप्त होती है. वहीं, भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और उन्हें मनवांछित फल की प्राप्ति होती है. इस दिन पूजा के बाद भगवान शिव और माता पार्वती के प्रिय मंत्रों का जाप (Lord Shiva Mnatra Jaap) अवश्य करें.

मासिक शिवरात्रि पर करें ये मंत्र जाप (Masik Shivratri Mantra Jaap)

1-शिव-पार्वती को प्रसन्न करने का मंत्र-

ऊँ उमामहेश्वराभ्यां नमः।

ऊँ पार्वत्यै नमः।

2-शिव-पार्वती के सिद्ध मंत्र -

ऊँ साम्ब शिवाय नमः।

ऊँ गौर्ये नमः।

3-घर में सुख-शांति के आगमन के विशेष मंत्र -

मुनि अनुशासन गनपति हि पूजेहु शंभु भवानि।

कोउ सुनि संशय करै जनि सुर अनादि जिय जानि।।

4- इच्छानुसार वर प्राप्ति का मंत्र -

हे गौरी शंकरार्धांगी। यथा त्वं शंकर प्रिया।

तथा मां कुरु कल्याणी, कान्त कान्तां सुदुर्लभाम्।।

5- सर्वकार्य सिद्धी का मंत्र -

ऊँ ह्लीं वाग्वादिनी भगवती ममं कार्य सिद्धि कुरु कुरु फट् स्वाहा।

मासिक शिवरात्रि के दिन शिव जी को पूजन में भांग, धतूरा, दूध, दही, घी, शहद और गंगा जल अर्पित करें. माता पार्वती को लाल रंग की चुनरी और श्रृगांर का समान अर्पित करें. ऐसा करने से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है. बता दें कि भगवान शिव की पूजा शाम के समय करना ज्यादा लाभदायी होती है.



No comments