Breaking News

सीने में ही नहीं पेट में भी होती है सर्दी, बचने के लिए ये टिप्स आएंगे आपके काम

सीने में ही नहीं पेट में भी होती है सर्दी, बचने के लिए ये टिप्स आएंगे आपके काम

अकसर लोगों को सर्दी का सीजन पसंद होता है। क्योंकि, इसमें मौसम काफी खुशगवार होता है, जो लोगों में सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाता है। हालांकि, इसके साथ ही ये मौसम कई तरह की तकलीफों को भी अपने साथ लाता है। इस मौसम में जरा सी लापरवाही इंसान को शीत की चपेट में ले सकती है। चिकित्सक कहते हैं कि लगातार ठंडी हवा के संपर्क में आने से हमारी छाती ही नहीं बल्कि पेट में शीत बैठ जाती है।

सीने में ही नहीं पेट में भी होती है सर्दी, बचने के लिए ये टिप्स आएंगे आपके काम

ये लक्षण कराते हैं पेट की सर्दी की पहचान

सीने में ठंड बैठने से फैफड़ों में कफ जमा हो जाता है, जो काफी पीड़ा का कारण बनता है। वहीं, अगर पेट में ठंड बैठ जाए तो, इसके कारण पेट दर्द महसूस होने लगता है। इसका सबसे पहला लक्षण ये ही कि, भले ही हमने कुछ खाया ना हो, लेकिन खाली पेट भी उल्टियां होने लगती है। अगर आप खुद या आपकी जान पहचान में कोई भी ऐसी ही किसी समस्या से ग्रस्त हो जाए, तो इससे निपटने के लिए आयुर्वेद में बढ़िया उपचार है। आयुर्वेद चिकित्सक दिलीप सेठी के मुताबिक, सर्दियों में होने वाली पेट से संबंधित बीमारियों के इलाज आयुर्वेद समेत कुछ घरेलू नुस्खों से भी किया जा सकता है। खासबात ये है कि, इस तरह के उपचार के कोई साइडइफेक्ट भी नहीं है।

ऐसे करें समाधान

-काबोर्नेट रहित सिरप का एक या दो चम्मच सेवन करने से उल्टियां तत्काल ही बंद हो जाती हैं।
-अदरक वाली चाय का सेवन कर सकते हैं।
-1 ग्राम हरड का चूर्ण शहद के साथ चटाने से भी उल्टियाँ रोकने में मदद मिलती है।
-लौंग, इजायची और दालचीनी में से किसी भी एक मसाले को मुंह में रखने से उल्टी से राहत मिलती है।
-सत अजवाइन , पेपरमिंट और कर्पूर का द्राव 15-20 बूँद तक की मात्रा में मिलाकर पिलाने से उल्टियाँ तुरंत रुक जाती हैं।
-नींबू का टुकड़ा काले नमक के साथ अपने मुंह में रखने से आपको उल्टी का एहसास नहीं होगा।
-जब भी सोयें तो अपनी दाहिनी बाज़ू पर सोयें। इससे आपके पेट के पदार्थ मुंह तक नहीं आ सकेंगे।
-आधा चम्मच पिसे हुए जीरे का सेवन करने से आपको पूर्ण रूप से उल्टियों से छुटकारा मिल जायेगा।
-1/2 कप चावल 1 या 1-1/2 कप पानी में उबाल लें। जब चावल पक जाएँ तो चावल निकालकर उस पानी का सेवन करें।
-एक ग्लास पानी में शहद मिलाकर पीने से भी उल्टियाँ रुकने में मदद मिलती है।
-सामान्य उबकाई में पेपरमिंट का सेवन हितकर होता है। इसे पान में रखकर सेवन करने से भी लाभ मिलता है।

No comments