Breaking News

कैसे पहचानें बच्‍चों की खांसी-जुकाम वायरल है या कोरोना का लक्षण है? ऐसे करें तुरंत पहचान

कैसे पहचानें बच्‍चों की खांसी-जुकाम वायरल है या कोरोना का लक्षण है? ऐसे करें तुरंत पहचान

वर्तमान में भारत कोरोना से जूझने वाले सबसे ज्‍यादा प्रभावित देशों में से एक है। हमारे देश में रोजाना 4 लाख के आसपास लोग कोरोना संक्रमित हो रहे हैं और कोविड के कारण हजारों लोगों की मौत हो रही है। आजकल आप भी अपने चारों तरफ कोरोना के लक्षण, इससे बचने के उपाय, ट्रीटमेंट, अस्‍पताल में बेडों की स्थिति, सरकार की लापरवाही, ऑक्‍सीजन और वैक्‍सीन जैसी चीजों के बारे में खूब सुन रहे होंगे। साथ ही आपने ये भी सुना होगा कि भारत में बहुत जल्‍द कोरोना की तीसरी लहर आने वाली है और इससे बच्‍चे भी प्रभावित होंगे। हालांकि इन दिनों बच्‍चों में भी कोरोना के केस काफी बढ़ गए हैं। कोरोना को लेकर बच्‍चों पर अभी कोई ऐसी रिसर्च सामने नहीं आई जिस पर आंख बंद कर विश्‍वास किया जाए। लेकिन अगर कोरोना के लक्षणों की बात की जाए तो वो बच्‍चों (COVID Symptoms in Children in hindi) में भी दिख सकते हैं। कोरोना का सबसे कॉमन लक्षण है सदी, जुकाम और गले में दर्द होना। साथ ही आपको यह भी पता होना चाहिए कि इन दिनों वायरल चल रहा है जिसके लक्षण भी लगभग ऐसे ही होते हैं। फिर कैसे पता चले कि बच्‍चों को होने वाली खांसी और जुकाम वायरल का संकेत है या कोरोना का लक्षण है। (Cold vs Corona Symptoms in Shildren in hindi)

आजकल वायरल चल रहा है (Viral Fever in Children in hindi)

क्‍योंकि आजकल कोरोना का कहर है इसलिए लोग यह भूल चुके हैं कि मई-जून में वायरल बुखार चरम पर होता है। अगर आप पिछले 2-3 साल का याद करें तो आपको समझ आएगा कि इस समय हर तीसरा व्‍यक्ति वायरल का मरीज होता था। अस्‍पतालों के बाहर भी आधे से ज्‍यादा मरीज वायरल फीवर की समस्‍या लेकर जाते थे। इसलिए अगर बच्‍चे को सर्दी-जुकाम, बुखार या गले में दर्द जैसी कोई समस्‍या होती है तो पैनिक न हो, बल्कि डॉक्‍टर से सलाह लें। कई रिसर्च इस बात की ओर इशारा करती हैं कि अगर बच्‍चों को कोरोना हो जाए तो उन्‍हें गंभीर नुकसान नहीं होता है। हालांकि कई कोरोना संक्रमित बच्‍चों मेंपीडियाट्रिक इंफ्लामेट्री मल्‍टी सिस्‍टम सिंड्रोम के मामले सामने आए हैं।

ऐसे पहचानें खांसी-जुकाम वायरल है या कोरोना का लक्षण

एक्‍सपर्ट्स और डॉक्‍टर कहते हैं कि भले ही सर्दी, खांसी-जुकाम कोरोना के लक्षण हैं लेकिन जरूरी नहीं है कि हर बार व्‍यक्ति कोविड संक्रमित ही पाया जाए। डॉक्‍टर कहते हैं कि अगर बच्‍चे को खांसी और जुकाम के साथ बुखार नहीं है तो ये कोरोना का लक्षण नहीं हो सकता है। साथ ही अगर पिछले कुछ दिनों से घर में कोई कोरोना पॉजिटिव नहीं हुआ है तो समझ लिजिए बच्‍चों को होने वाला सर्दी जुकाम वायरल का संकेत है और कोरोना की संभावना बहुत कम है। लेकिन अगर बच्‍चे को स्‍वाद नहीं आ रहा है या आपको बच्‍चे में कोई और लक्षण दिख रहे हैं तो बिना देरी के टेस्‍ट कराएं। क्‍योंकि जैसे जैसे वक्‍त बढ़ रहा है वैसे वैसे कोरोना के लक्षण और रूप भी बदल रहे हैं।

No comments