Breaking News

विश्व क्रिकेट के इन पांच विकेटकीपरों का छोटा रहा करियर, लेकिन हमेशा किए जाएंगे याद

विश्व क्रिकेट के इन पांच विकेटकीपरों का छोटा रहा करियर, लेकिन हमेशा किए जाएंगे याद

क्रिकेट के खेल में जितनी भूमिका बल्लेबाज और गेंदबाज की होती है, उतनी ही विकेटकीपर की भी होती है. विकेटकीपर द्वारा पकड़ा गया एक कैच मैच का पासा ही पलट देता है. आज हम आपको उन पांच विकेटकीपर के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका क्रिकेट करियर काफी छोटा रहा. लेकिन उन्होंने जितने भी मैच खेले वो यादगार रहे.

विजय यादव पूर्व भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज विजय यादव ने साउथ अफ्रीका का दौरा किया था. तब वो मैच में विकेट कीपिंग कर रहे थे. इस मुकाबले में अफ्रीका को अंतिम ओवर में 6 रनों की जरूरत थी और उनके सामने सचिन तेंदुलकर गेंदबाजी कर रहे थे. विजय यादव इस ओवर में लगातार कप्‍तान अजहर और गेंदबाजी का जिम्‍मा संभाल रहे. सचिन तेंदुलकर के टच में थे. वे हर गेंद के बाद लगभग अगली गेंद को लेकर रणनीति बना रहे थे.

 उन्होंने तीन गेंदें भी रोकी.

ग्रेंट जोंस इंग्लैंड के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज ग्रेंट जोंस का करियर भी छोटा रहा. लेकिन बहुत ही शानदार था. ग्रेंट जोंस को 2005 की एशेज सीरीज में मौका दिया गया. दूसरे टेस्‍ट मैच के अंतिम दिन जोंस ने छलांग लगाते हुए एक बेहतरीन कैच लपका था. यह कैच काफी अहम साबित हुआ और इंग्‍लैंड टीम यह मैच महज दो रनों के अंतर से जीत गई. इंग्लैंड की टीम ने यह मैच 2 रनों के अंतर से जीता था.

कर्टनी ब्राउन 
वेस्टइंडीज के पूर्व विकेटकीपर कर्टनी ब्राउन ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने करियर की शुरुआत साल 1995 में ऑस्‍ट्रेलिया टीम के खिलाफ की थी. आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में उन्होंने इयान ब्रैडशॉ के साथ मिलकर नौंवे विकेट के लिए कुल 71 रनों की साझेदारी भी की.

सदानंद विश्वनाथ पूर्व भारतीय विकेटकीपर सदानंद विश्वनाथ को 1985 विश्व चैंपियनशिप के दौरान टीम इंडिया में मौका मिला था. हालांकि वो 3 टेस्ट में खेल पाए.

टिम एंब्रोस इंग्लैंड के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज टिम एंब्रोस का क्रिकेट करियर मात्र 26 साल की उम्र में ही खत्म हो गया. टिम एंब्रोस ने 11 मैच खेले, जो कि बहुत ही शानदार रहे. उन्होंने 3 अर्धशतक लगाए और 1 शतक भी लगाया. इसके अलावा बढ़िया विकेटकीपिंग भी की.

No comments