Breaking News

क्या आप जानते हैं पंचामृत और चरणामृत में क्या अंतर है? इन बिंदुओं को यहां अवश्य पढ़ें

क्या आप जानते हैं पंचामृत और चरणामृत में क्या अंतर है? इन बिंदुओं को यहां अवश्य पढ़ें

पूजा पथ: हिंदू धर्म में पंचामृत और चरणामृत का विशेष महत्व है। किसी भी देवता की कथा या पूजा के बाद भक्तों को प्रसाद के रूप में पंचामृत और चरणामृत दिया जाता है।

पूजा पथ: हिंदू धर्म में पंचामृत और चरणामृत का विशेष महत्व है। किसी भी देवता की कथा या पूजा के बाद भक्तों को प्रसाद के रूप में पंचामृत और चरणामृत दिया जाता है। माना जाता है कि यह सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। लोग अक्सर पंचामृत और चरणामृत को एक ही समझ लेते हैं, लेकिन दोनों में बहुत अंतर है। इतना ही नहीं इन्हें बनाने का तरीका भी अलग होता है। यहां तक ​​कि इसे लेने के तरीके में भी अंतर होता है। आइए जानते हैं पंचामृत और चरणामृत के बारे में जरूरी बातें।

पंचामृत और चरणामृत क्या है

पंचामृत पांच प्रकार के शुद्ध पदार्थों से बनता है। पंचामृत को पीने योग्य बनाया जाता है। भगवान विष्णु की कथा के बाद उन्हें पंचामृत का भोग लगाया जाता है। जबकि चरणामृत को भगवान विष्णु के चरणों का जल कहा जाता है। जैसा कि इसके नाम से भी जाना जाता है। चरणामृत- चरण अमृत। चरणामृत को तांबे के बर्तन में तुलसी और तिल के साथ रखा जाता है, जिससे तांबे के औषधीय गुण उसमें समा जाते हैं।

कैसे बनाएं पंचामृत

गाय के दूध, गाय के घी, दही, शहद और चीनी को मिलाकर पंचामृत बनाया जाता है। एक धार्मिक महत्व है कि पंचामृत में इस्तेमाल होने वाली हर चीज का एक अलग महत्व होता है।

जानिए पंचामृत के फायदे

मान्यता है कि पंचामृत शरीर को रोगों से मुक्त करता है। शास्त्रों में बताया गया है कि जिस प्रकार भगवान को पंचामृत से स्नान कराया जाता है, उसी प्रकार यदि कोई व्यक्ति इसमें स्नान करता है तो उसका शरीर बीमार नहीं पड़ता। कहा जाता है कि पंचामृत का सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए।

जानिए चंद्रामृत के नियम

ऐसा माना जाता है कि चरणामृत लेने के बाद भी उस हाथ को कभी भी सिर पर नहीं फेंकना चाहिए। ऐसा करने से नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसके साथ ही बता दें कि चरणामृत को हमेशा दाहिने हाथ में लें। साथ ही शांत मन से चरणामृत का सेवन करें।


No comments