Breaking News

FD या RD में पैसे निवेश करने की है प्लानिंग, जान लें दोनों के बीच का बड़ा अंतर

FD या RD में पैसे निवेश करने की है प्लानिंग, जान लें दोनों के बीच का बड़ा अंतर

जीवन में हर समझदार व्यक्ति पैसे कमाने के साथ उसकी सेविंग के महत्व को भी समझता है. हर कोई चाहता है कि वह अपनी पैसों को उस जगह सेव करें जिससे उसे ज्यादा से ज्यादा भविष्य में रिटर्न मिल सकें. आज भी देश में एक बड़ा वर्ग है जो किसी जोखिम वाले ऑप्शन्स में निवेश करने के बजाए बैंकों में पैसे रखना ज्यादा पसंद करता है. वैसे तो बैंक में भी आप पैसे अलग-अलग तरह से निवेश कर सकते हैं. लेकिन, एफडी (Fixed Deposit) और आरडी (Recurring Deposit) सबसे कॉमन ऑप्शन में से एक हैं. यह बाजार जोखिमों से अलग होते हैं और आपको अच्छे रिटर्न भी देने में मदद करते हैं.

लेकिन, कई बार लोगों को एफडी और आरडी के बीच का फर्क नहीं समझ में आता है. तो चलिए हम आपको एफडी और आरडी के बीच के फर्क के बारे में बताते हैं. इसके बाद आप अपनी जरूरत के अनुसार इन दोनों में से किसी भी ऑप्शन का चुनाव कर सकते हैं-

एफडी और आरडी के बीच का फर्क
एफडी और आरडी के बीच बहुत बड़ा फर्क होता है. एफडी में ग्राहक एकमुश्त पैसा जमा करता है. इसके बाद बैंक इस पर सालाना के हिलाव से ब्याज ग्राहक को देता है. वहीं आरडी में ग्राहक किश्तों में पैसे जमा कर सकता है. एफडी में पैसे जमा करने के लिए आप 7 दिन से लेकर 10 साल तक के अवधि का चुनाव कर सकते हैं. वहीं आरडी में ग्राहक 6 महीने से लेकर 10 साल तक पैसे निवेश कर सकते हैं.

दोनों पर मिलता है अलग-अलग ब्याज
आपको बता दें कि एफडी और आरडी पर बैंक अलग-अलग ब्याज दर ऑफर करते हैं. आज के समय में बैंक आरडी में एफडी की तुलना में ज्यादा ब्याज मिलता है. एफडी में एक साथ अवधि पूरी होने पर पैसे पर ब्याज मिलता . वहीं आरडी में हर महीने या तीन महीने के अनुसार ब्याज मिलता है. एफडी में पैसे एक बार ही जमा होता. वहीं में आरडी हर महीने तय रकम जमा होती है.अगर कोई खाताधारक हर महीने थोड़ी सेविंग करना चाहता है तो वह आरडी के ऑप्शन का चुनाव कर सकता है. वहीं जिन्हें साथ बड़े अमाउंट की रकम सेव करनी है वह एफडी में पैसे निवेश करें.

No comments