Breaking News

IAS Officer:क्या आप जानते हैं, IAS अफसर को पहली पोस्ट से सबसे ऊंचे पद तक पहुंचने में लगते हैं इतने साल, यहाँ जानें

IAS Officer:क्या आप जानते हैं, IAS अफसर को पहली पोस्ट से सबसे ऊंचे पद तक पहुंचने में लगते हैं इतने साल, यहाँ जानें

IAS Officer : यूपीएससी परीक्षा क्लियर कने के बाद ही फाइनल कट ऑफ के आधार पर एक आईएएस ऑफिसर ​(IAS Officer) ​का चयन किया जाता है. इसके बाद लाल बहादुर शास्त्री ट्रेनिंग एकेडमी (LBSNAA) मसूरी में ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है. यहां से अभ्यर्थी का आईएएस का सफर शुरू होता है, लेकिन आपके दिमाग में ये सवाल तो आता होगा कि आईएएस​ (IAS)​ की सबसे ऊंची पोस्ट ​(Higher Post) ​क्या होती है. ऐसे ही सवाल का जवाब यहां मिलेगा.

कट ऑफ के अनुसार उन्हें आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS) और आईएफएस (IFS) की पोस्ट मिलती है. एक IAS अपने करियर की शुरुआत मसूरी में मौजूद लाल बहादुर शास्त्री एकेडमी में ट्रेनिंग के बाद आवंटित कैडर में जिला प्रशिक्षण से करता है. जिसके बाद अफसर राज्य प्रशासन में उप जिलाधिकारी (एसडीएम) के रूप में काम शुरू करते हैं. यदि एसडीएम की नियुक्ति मिलती है तो अधिकारी को तहसील की कानून व्यवस्था का जिम्मा दिया जाता है.

जिला प्रशिक्षण के पश्चात आईएएस अधिकारी 03 माह तक के लिए केंद्र सरकार में सहायक सचिव के रूप में कार्यरत होते हैं. जिसके बाद उन्हें डीएम या अन्य किसी पद पर नियुक्ति मिलती हैं. आईएएस अधिकारी को सरकारी विभागों या मंत्रालयों में नियुक्त किए जा सकते हैं. यहां कार्य के दौरान उन्हें डेपुटेशन पर वर्ल्ड बैंक, इंटरनेशनल मानेट्री फंड, एशियन डेवलपमेंट बैंक, द एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट बैंक और यूनाइटेड नेशंस और उसकी एजेंसियों में तैनात किया जा सकता है.


फील्ड पोस्टिंग के दौरान मिल सकते हैं ये पद:
​​उप जिलाधिकारी.
अपर जिलाधिकारी.
जिलाधिकारी.
मंडलायुक्त.

​राज्य सरकार में मिल सकते हैं ये पद:

​​अवर सचिव.
उप सचिव.
संयुक्त सचिव.
विशेष सचिव.
सचिव.
प्रमुख सचिव.
मुख्य सचिव.

​​केंद्र सरकार में मिल सकते हैं ये पद:
सहायक सचिव.
अवर सचिव.
उप सचिव.
निदेशक.
संयुक्त सचिव.
अपर सचिव.
सचिव.
भारत के कैबिनेट सचिव.

No comments