Breaking News

सांस लेने में आती है दिक्कत, तो रोज़ाना करें ये 4 योगासन

सांस लेने में आती है दिक्कत, तो रोज़ाना करें ये 4 योगासन

अस्थमा सांस से जुड़ी एक ऐसी गंभीर बीमारी है जो तेज़ी से बढ़ रही है। यही वजह है कि इस बारे में लोगों में जागरुकता फैलाने के लिए हर साल विश्व अस्थमा दिवस मनाया जाता है। इस बार यह दिवस 3 मई को मनाया जा रहा है।

क्या है अस्थमा?

अस्थमा एक सांस से जुड़ी बीमारी है, जो वायुमार्ग में सूजन और इसके छोटे हो जाने के कारण होता है। अस्थमा आज एक ऐसी बीमारी बन चुकी है, जिसका सामना कई लोग कर रहे हैं। इससे सांस लेने में कठिनाई, खांसी, घरघराहट और भी कई परेशानियां होती हैं। इस बीमारी से पीड़ित लोगों का उपचार इनहेलर के उपयोग से किया जाता है। हालांकि, इसके अलावा योग और सांस लेने के व्यायाम के वैकल्पिक उपचार भी हैं, जो अस्थमा के रोगियों के लिए सांस की तकलीफ में सुधार और सांस लेने की प्रक्रिया को तेज करने में भी मदद कर सकते हैं।

तो आइए जानें ऐसे कुछ योगासनों के बारे में जो अस्थमा के मरीज़ों के काम आ सकते हैं।

भ्रस्तिका प्रराणायाम

यह आसन फेफड़ों के लिए बेहद ही शक्तिशाली व्यायाम है और इसे करने के कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं। यह मस्तिष्क और तंत्रिका और मोटर प्रणाली के ऑक्सीजनकरण में मदद करता है। यह शरीर और दिमाग को सक्रिय करने में भी मदद करता है। यह अवसाद, चिंता और यहां तक कि फाइब्रोसिस के इलाज में मदद करता है। इसके अलावा यह खांसी, फ्लू, श्वसन संबंधी समस्याओं, एलर्जी या सांस फूलने के इलाज में भी मदद करता है।

भ्रामरी प्राणायाम

यह सांस लेने का व्यायाम मन को शांत करने और शरीर को पुनर्जीवित करने में मदद करता है। यह स्वाद और सुगंध के प्रति संवेदनशीलता बढ़ाने में भी मदद करता है। यह तनाव और चिंता को दूर करने और गले की परेशानी का इलाज करने में मदद करता है।

खंड प्राणायाम

सांस लेने की इस तकनीक में सांस लेने को दो भागों में बांटा है। एक सांस को अंदर लेना और दूसरा छोड़ना। यह फेफड़ों की ऑक्सीजन ग्रहण करने की क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। यह फेफड़ों की शक्ति, सहनशक्ति के निर्माण में मदद करता है। यह वसा हानि, त्वचा में सुधार और समग्र जीवनकाल को बढ़ाने में भी मदद करता है।

कपालभाति

इस श्वास व्यायाम से चेतना में वृद्धि होती है। इस अभ्यास के निरंतर अभ्यास से ध्यान और संवेदी धारणा भी बढ़ जाती है। यह वजन घटाने को बढ़ावा देने और शरीर के चयापचय में सुधार करने में भी मदद करता है।

No comments