Breaking News

मंदिर से जूते-चप्पल चोरी होना माना जाता है शुभ, बनते हैं धन वर्षा के योग

मंदिर से जूते-चप्पल चोरी होना माना जाता है शुभ, बनते हैं धन वर्षा के योग

अक्सर आप मंदिर जाते होंगे. मंदिर के अंदर प्रवेश करने से पहले जूते-चप्पल बाहर खोलते होंगे. ऐसे में अक्सर मन में ये खयाल आता होगा कि कहीं जूते चप्पल चोरी न हो जाएं, लेकिन क्या आपको पता है कि मंदिर से जूते-चप्पल चोरी होना शुभ माना जाता है. जी हां शनिवार के दिन अगर आपके जूते या चप्पल मंदिर के बाहर से चोरी हो जाते हैं तो समझिए कि आपका भाग्य खुलने वाला है. आपके गरीबी के दिन जाने वाले हैं और जमकर धन वर्षा होने वाली है.

बुरा समय होने वाला है खत्म

भारतीय ज्योतिष में कई तरह की मान्यता है. मंदिर से शनिवार के दिन जूते-चप्पल की चोरी होते हैं तो इसे काफी शुभ माना जाता है. यह एक शुभ शगुन है. इसका मतलब है कि जल्द ही आपका बुरा समय खत्म होने वाला है और जीवन में खुशहाली आने वाली है.

पैरों में होता है शनि का वास

ज्योतिष में मान्यता है कि पैरों में शनि का वास होता है. शनि ग्रह का संबंध पैरों से होने के कारण जूते-चप्पल का कारक शनि होता है. यह भी मान्यता है कि शनिवार के दिन जूते-चप्पल दान करने से शनिदेव बहुत प्रसन्न होते हैं और सभी कष्ट दूर हो जाते हैं.

मुसीबत के दिन होंगे दूर

किसी की कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में है तो कार्य में आसानी से सफलता नहीं मिलती है. ऐसे में अगर शनिवार के दिन मंदिर से जूते चोरी हो जाएं तो इसका मतलब है कि कुछ शुभ होने वाला है. चमड़ा और पैर दोनों ही शनि से प्रभावित होते हैं, इसलिए यदि शनिवार के दिन जूते-चप्पल चोरी हो जाए तो यह माना जाना चाहिए कि मुसीबत के दिन बहुत जल्द ही दूर होने वाले हैं.

No comments