Breaking News

2017 विश्व कप फाइनल और 2022 कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की हार के बीच 4 समानता

4-unnoticed-coincidences-between-india-womens-defeat-in-2017-world-cup-final-and-2022-commonwealth-games

ब्रिटेन के बर्मिघंम में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 क्रिकेट इवेंट के फाइनल मुकाबले में भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया की टीम से 9 रनों से हार का सामना करना पड़ा। आपको बता दें यह पिछले पांच साल में तीसरी बार है जब भारतीय महिला क्रिकेट टीम फाइनल में पहुंची है लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। साल 2017 के 50-ओवर महिला विश्व कप में भारत को रोमांचक मुकाबले में इंग्लैंड से हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया की महिला टीम ने आईसीसी टी20 विश्व कप के फाइनल में भारत को हराकर खिताब पर कब्जा किया था। भारत की साल 2017 की हार और कॉमनवेल्थ गेम्स की फाइनल के हार में काफी समानता है। ऐसे में इस आर्टिकल में हम उन चार समानताओं पर एक नजर डालेंगे।
दोनों मैच इंग्लैंड में ही हुए

इंग्लैंड ने क्रिकेट की कई बड़ी टूर्नामेंट का आयोजन किया है। इंग्लैंड साल 2017 के 50-ओवर विश्व कप का मेजबान था। भारत और इंग्लैंड की टीम के बीच लॉर्ड्स के मैदान पर फाइनल मुकाबला खेला गया था। और कॉमनवेल्थ गेम्स के क्रिकेट इवेंट का फाइनल मुकाबला इंग्लैंड के एजबेस्टन के मैदान पर खेला गया।
भारतीय महिला टीम को दोनों फाइनल में 9 से हार का सामना करना पड़ा

एक और दिलचस्प संयोग यह है कि वूमेन इन ब्लू ने दोनों मैचों में लक्ष्य का पीछा किया जहां उन्हें 9 रन से हार का सामना करना पड़ा। साल 2017 में इंग्लैंड की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 228 रन बनाए थे। लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम 219 रन पर ऑल आउट हो गई। कॉमनवेल्थ गेम्स के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने 20 ओवर में 8 विकेट के नुकसान पर 161 रन बनाए। इसके जबाव में भारत 19.3 गेंद में 152 रन पर ऑल आउट हो गई।

हरमनप्रीत कौर ने जमया अर्धशतक

भारतीय मौजूदा कप्तान हरमनप्रीत कौर ने दोनों फाइनल मुकाबले मे अर्धशतक लगाया था लेकिन टीम के लिए जीत सुनिश्चित करने में असफल रही थीं। साल 2017 के फाइनल में हरमनप्रीत कौर ने चार नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 80 गेंदों में 51 रन की पारी खेली थी जिस दौरान उन्होंने तीन चौके और दो छक्के भी जमाए थे। कॉमनवेल्थ गेम्स के फाइनल में हरमनप्रीत ने कप्तानी पारी खेलते हुए 43 गेंदों में सात चौके और दो छ्क्के की मदद से 65 रन बनाए। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 151.16 का रहा।

तीसरे विकेट के लिए 90 रनों से अधिक की साझेदारी

भारतीय सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना का दोनों फाइनल मैच में बल्ला खामोश रहा था। जीसके बाद साल 2017 में हरमनप्रीत कौर ने भारतीय सलामी बल्लेबाज पूनम राउत के साथ तीसरे विकेट के लिए 129 गेंदों में 95 रनों की साझेदारी निभाई थी। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बर्मिघंम में भारत को एक बार फिर सलामी बल्लेबाजों ने निराश किया जिसके बाद भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने युवा बल्लेबाज जेमिमा रोड्रिग्स के साथ मिलकर तीसर विकेट के लिए 71 गेंदों में 96 रनों की साझेदारी निभाई। लेकिन दोनों बल्लेबाज भारत को जीत की दहलीज तक नहीं पहुंचा सके।

No comments