Breaking News

पितृदश और कालसर्प को दूर करता है कपूर, जानिए इसके उपाय

Camphor removes Pitradash and Kalsarp, know its remedies

वास्तु शास्त्र: पूजा में तांबे का महत्वपूर्ण स्थान है। आरती के दौरान और हवन में भी इसका इस्तेमाल करें। इसके कुछ औषधीय गुणों के साथ-साथ धार्मिक महत्व भी है। कपूर से जुड़े कुछ उपाय हैं। ऐसा करने से ग्रह दोष और वास्तु दोष दूर होते हैं। जानिए कफ से जुड़े कुछ उपाय, जिनका इस्तेमाल कर आप फायदा उठा सकते हैं।

कपारी का उपाय

1. घर में सुबह-शाम कपूर जलाने से घर का वातावरण शुद्ध होगा, सकारात्मकता फैलेगी और नकारात्मक ऊर्जा दूर होगी, जिससे परिवार में सुख-शांति बनी रहेगी।

2. अगर आपके घर में कहीं भी वास्तु दोष है तो उसे दूर करने का सबसे आसान उपाय है कि एक कटोरी में कपूर के कुछ टुकड़े लेकर उसे वहीं रख दें। कुछ दिनों के बाद जब कपूर खत्म हो जाए तो उसमें कपूर के नए टुकड़े डाल दें। ऐसा करने से वास्तु दोष धीरे-धीरे दूर हो जाएगा।

3. आपने लोगों को यह कहते सुना होगा कि उनके पास पितृ दोष या काल सर्प दोष है, इसलिए वे आगे नहीं बढ़ रहे हैं। राहु और केतु ग्रह सर्प दोष का कारण बनते हैं। इन दोषों से छुटकारा पाने के लिए घर में सुबह, शाम और रात में तीन बार कपूर जलाएं।

4. शनिवार के दिन नहाने के पानी में कुछ बूंदे कपूर का तेल और चमेली का तेल मिलाकर स्नान करें। ऐसा करने से शनिदोष दूर होता है। राहु-केतु को भी कष्ट नहीं होगा।

5. धार्मिक मान्यता यह है कि अगर शादी में पति-पत्नी के बीच तालमेल ठीक नहीं रहता है तो अपने शयनकक्ष में कपूर रखें और कुछ दिनों बाद इसे बदलते रहें। ऐसा करने से पति-पत्नी के रिश्ते सुधरने लगते हैं।

6. अगर आपको सोते समय बुरे सपने आते हैं या डर लगता है तो आपको अपने शयनकक्ष में कपूर जलाना चाहिए। इससे नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है

No comments