Breaking News

गलती से भी ‘इन’ तीन लोगों को कम मत समझो, मौका मिलने पर हमला कर देते हैं

Do not underestimate 'these' three people even by mistake, they attack when they get a chance

चाणक्य नीति: आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार कठोर हो सकते हैं, लेकिन अगर आप उन्हें जीवन में लागू करते हैं, तो आपको आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता। आचार्य चाणक्य आपको जीवन में सभी कठिनाइयों से आसानी से निकाल सकते हैं, आपको बस अपना काम करते रहना है और आचार्य चाणक्य की रणनीतियों को जीवन में लागू करना है। आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जिन्हें हमें कभी भी कम करके नहीं आंकना चाहिए।

चाणक्य नीति
को भूल से भी रोग, शत्रु, सांप को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। वे फिर से हमला कर सकते हैं – आचार्य चाणक्य

आचार्य चाणक्य के इस कथन का अर्थ है कि जीवन में इन तीन बातों को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए। एक बार जब ये तीन चीजें आपको पकड़ लेती हैं, तो ये आपको कभी नहीं छोड़ती हैं। और अगर आप जाने देते हैं, तो मौका मिलने पर वे आपको पकड़ लेते हैं। हां, ये तीन चीजें हैं- रोग, शत्रु और सांप।

बीमारी – एक बार एक बीमारी ने मानव शरीर को अपनी चपेट में ले लिया, लेकिन अगर आप अपने शरीर की देखभाल नहीं करते हैं, तो यह बड़ी बात है कि यह आपको फिर से पकड़ लेगा, इसलिए इसे कभी कम मत समझो।

शत्रु – शत्रु बैठे भी हो, उसे कमजोर मत समझो, यह मत सोचो कि वह पराजित और शान्त है, शत्रु सदैव आक्रमण करने के अवसर की तलाश में रहता है।

सांप – सांपों के साथ भी ऐसा ही है, अगर आप एक बार इसके चंगुल से बच गए तो यह बिल्कुल भी न सोचें कि यह फिर से आप पर हमला नहीं करेगा। एक सांप हमेशा दुबका रहता है और जब भी मौका मिलेगा आपको काटेगा।

इसलिए आचार्य चाणक्य ने कहा है कि रोगों, शत्रुओं और सांपों को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए, पता नहीं कब वे आपसे बदला ले लें।


No comments