Breaking News

R2 Homeopathic Medicine Uses in Hindi – उपयोग, फायदे व नुकसान

R2 Homeopathic Medicine Uses in Hindi – उपयोग, फायदे व नुकसान

R2 होम्योपैथिक मेडिसिन के उपयोग, फायदे, नुकसान, खुराक और सावधानी की पूर्ण जानकारी | R2 Homeopathic Medicine Uses, Benefits, Side Effects, Dosage and Precaution in Hindi

R2 Homeopathic Medicine Uses in Hindi – आज के इस पोस्ट में आप लोगों को R2 होम्योपैथिक दवा के बारे में जानकारी देने वाला हूँ. लेख के माध्यम से हम जानेंगे कि R2 होम्योपैथिक मेडिसिन क्या है? इसके क्या उपयोग हैं और क्या-क्या फायदे हैं? साथ ही इस दवा के सेवन से होने वाले दुष्प्रभाव व नुकसान आदि की जानकारी भी हासिल करेंगें.

यहाँ कुछ शब्दों में आपको बताते चले कि डॉ. रेकवेग आर2 हार्ट की समस्याओं के उपचार के लिए इस्तेमाल जाने वाली होम्योपैथिक दवा है. Dr. Reckeweg R2 अनियमित दिल की धड़कन, दिल की धड़कन तेज होना और एंजाईना की समस्या का उपचार करता है.

तो यदि आपको भी दिल से जुड़ी कोई भी समस्या है तो डॉक्टर के परामर्श से R2 होम्योपैथिक मेडिसिन का उपयोग कर सकते हैं. तो चलिए अब हम लोग डॉक्टर रेक्वेग R2 होमेयोपैथिक दवा के उपयोग ( R2 Homeopathic Medicine Uses in Hindi ), फायदे व नुकसान आदि की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करें…
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन क्या है? Dr. Reckeweg R2 in Hindi

अब आप लोगों को यहाँ पर आर2 होम्योपैथिक मेडिसिन के बारे ( r2 homeopathic medicine reviews ) में बताने वाले हैं. R2 होम्योपैथिक मेडिसिन डॉ रैकवैग द्वारा निर्मित एक ड्राप है जिसका इस्तेमाल दिल की समस्याओं के उपचार में किया जाता है. आपको बता दें कि डॉ रैकवैग एक जर्मनी की कंपनी है और भारत में इसके प्रोडक्ट्स डॉक्टर रोशनलाल अग्रवाल एंड संस के द्वारा इंपोर्ट किये जाते है. R2 होम्योपैथिक मेडिसिन में कई तरह के इनग्रेडिएंट डाले गए हैं जिनका मुख्य कार्य हार्ट से जुड़े समस्याओं को कम करना होता है.
R2 होम्योपैथिक दवा की सामग्री- R2 Composition in hindi

आर2 होम्योपैथी मेडिसिन में कई प्रकार के सामग्रियां शामिल हैं. इन सामग्रियों में निम्न प्रमुख हैं…अर्निका ( Arnica )
ऑरम क्लोरैटम ( Aurum chloratum )
इग्नाटिया ( Ignatia )
कैक्टस ( Cactus )
क्रेतेगुस ( Crataegus )
कलियम फॉस्फोरिकम ( Kalium phosphoricum )
लौरोकेरासस ( Laurocerasus )
स्पिगेलिया ( Spigelia )
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन के उपयोग – R2 Homeopathic Medicine Uses in Hindi

डॉक्टर रेकवेग की होम्योपैथिक मेडिसिन R2 का मुख्य उपयोग दिल से जुड़े समस्याओं में किया जाता है. इसके अलावा निम्न बीमारियों व लक्षणों के उपचार में भी इसका उपयोग किया जा सकता है…अनियमित दिल की धड़कन
दिल की धड़कन बढ़ना
हार्ट अटैक
हार्ट स्ट्रोक
सांस लेने में परेशानी
दिल में दर्द या घबराहट
एनजाईना
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन के लाभ व फायदे – R2 Homeopathic Medicine Benefits in Hindi

डॉक्टर रेक्वेग आर2 होम्योपैथिक मेडिसिन से होने वाले फायदे ये हैं…यह हृदय कार्यों का समर्थन करने में मदद कर सकता है.
यह मानसिक कल्याण का समर्थन कर सकता है.
यह सूजन को कम करने में मदद कर सकता है.
बूँदें हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी मदद कर सकती हैं.
अनियमित दिल की धड़कन को कण्ट्रोल करता है.
हार्ट अटैक से बचाता है.
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन के नुकसान – R2 Homeopathic Medicine Side Effects in Hindi

डॉक्टर रेकवेग के R2 होम्योपैथिक मेडिसिन के सेवन करने से किसी प्रकार के दुष्प्रभाव नहीं मिले. हालाँकि आपको आर2 के सेवन से किसी तरह की नुकसान होती है तो तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करें.
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन की खुराक – R2 Homeopathic Medicine Dosage in Hindi

किसी भी दवा की खुराक मरीज की उम्र, लिंग बीमारी, लक्षण आदि कारकों पर निर्भर करती है. R2 दवा की उचित खुराक के लिए डॉक्टर से परामर्श लें. सामान्यत: हर रोगी का मामला अलग हो सकता है. इसलिए डॉक्टर रोगी के स्थिति और मामला का निरिक्षण कर उचित खुराक का परामर्श देंगें.
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन कैसे काम करती है?

आर2 में कई तरह की सामग्रियां शामिल हैं. इन सभी सामग्रियों की क्रिया विधि अलग-अलग है जो इस प्रकार है…

अर्निका – हार्ट की तंत्रिका संबंधी विकार को दूर करती है.

ऑरम क्लोरैटम – हार्ट की मांसपेशियों को मजबूत करती है.

इग्नाटिया – हार्ट की नाड़ी संबंधी विकार को दूर करती है.

कैक्टस – घुटन की अनुभूति, अवसाद, ह्रदय शूल में कार्य करती है.

क्रेतेगुस – हार्ट का ख्याल रखने में मदद करता है.

कलियम फॉस्फोरिकम – खून की कमी, नर्वसनेस, हार्ट की मांसपेशियां कमजोर पड़ना.

लौरोकेरासस – शरीर नीला पड़ना, छाती में दबाव

स्पिगेलिया – असामान्य नाड़ी, बाएं बाहों में दर्द
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन का सेवन कैसे करें?

किसी भी दवा का सेवन करने के लिए सबसे पहले डॉक्टर से कंसल्ट कर परामर्श लें. R2 होम्योपैथिक दवा का सेवन दिन में अधिकतम 3 बार कर सकते हैं.
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन की कीमत – R2 Homeopathic Medicine Price

आर2 होम्योपैथिक मेडिसिन की कीमत अधिकतम खुदरा मूल्य 250 रुपए है.
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन को स्टोर कैसे करें?

डॉ रेकवेज आर2 ड्रॉप को कमरे के तापमान पर स्टोर करें. इसे सूरज की रोशनी और नमी वाली जगह से दूर रखें. सुरक्षा के लिहाज से आपको इसे बच्चों और जानवरों की पहुंच से दूर रखना चाहिए. इस्तेमाल करने से पहले इसकी एक्सपायरी डेट देख लें.
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन से जुड़ी सावधानीआर2 होम्योपैथिक मेडिसिन को उपयोग करने से पहले लेबल को ध्यान से पढ़ें.
गर्भवती महिलाएं इस दवा के सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह लें.
स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी दवा के सेवन से पहले डॉक्टर को इस संबंध में सूचित करें.
उपयोग करने से पहले एक्सपायरी डेट देख लें.
कभी भी अल्कोहल के साथ इसका सेवन न करें.
इस दवा को बच्चो के पहुँच से हमेशा दूर रखें.
डॉ रेकवेज आर2 ड्रॉप को डॉक्टर के निर्देशानुसार लें.
यदि दवा के सेवन से एलर्जी हो तो डॉक्टर को सूचित करें.
R2 होम्योपैथिक मेडिसिन से संबंधित अक्सर पूछी जाने वाली सवाल

Q1. R2 होम्योपैथिक मेडिसिन किस काम आती है?

डॉक्टर रेकवेग R2 होम्योपैथिक मेडिसिन हार्ट से जुड़े समस्याओं के उपचार में काम आता है.

Q2. R2 होम्योपैथिक मेडिसिन की कीमत कितनी है?

R1 होम्योपैथिक मेडिसिन की कीमत 250 रुपए के करीब है.

Q3. R2 होम्योपैथिक मेडिसिन का सेवन कब करें?

R2 होम्योपैथिक मेडिसिन का सेवन डॉक्टर के द्वारा बताये निर्देश से करें.

Q4. R2 होम्योपैथिक मेडिसिन का उपयोग कब तक करना है?

डॉक्टर के अनुसार बताये अवधि तक इसका सेवन करें.

Q5. क्या लीवर और ह्रदय के लिए इसका सेवन सुरक्षित है?

लीवर और ह्रदय के मरीजों के लिए R2 का सेवन करने से किसी तरह की बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है. फिर भी यदि आपको लीवर, हार्ट और किडनी से जुड़ी समस्या है तो इस दवा के सेवन से पूर्व डॉक्टर को सूचित करें.


No comments