Breaking News

शारदीय नवरात्रि दुर्गा पूजा नियम: Shardiya Navratri 2022 Dates Time

शारदीय नवरात्रि दुर्गा पूजा नियम | Shardiya Navratri 2022 Dates Time

Shardiya Navratri 2022 Dates Time पंचांग के अनुसार हर साल आश्विन माह शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शारदीय नवरात्रो का शुभारम्भ होता है साल 2022 में शारदीय नवरात्रि 26 सितम्बर सोमवार से शुरू हो रही है और इसका समापन 5 अक्टूबर को होगा. दुर्गा पूजा के नौ दिवसीय इस पर्व में प्रत्येक दिन माँ दुर्गा के नौ विभिन्न स्वरूपों की पूजा अर्चना और व्रत उपवास किये जायेंगे. मान्यताओं के अनुसार किसी भी व्रत या पूजा का पूर्ण फल पाने के लिए उससे जुड़े नियमो का पालन भी जरूर करना चाहिए. आइये जानते है शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि में माँ दुर्गा की पूजा के दौरान किन नियमो का पालन करना चाहिए.
अस्वछ्ता ना रखे शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि देवी दुर्गा को समर्पित ऐसा पर्व है जो पूरे 9 दिनों तक चलता है और इन 9 दिनों तक घर तथा पूजास्थल में अस्वछता नहीं रखनी चाहिए पूजा के दौरान सात्विकता और पवित्रता का खास ख्याल रखना चाहिए. मान्यता है की इस दौरान मन वचन और कर्म की शुद्धता बनाये रखते हुए माँ की भक्ति व पूजा करने से माता रानी प्रसन्न होती है.

तामसिक भोजन से परहेज करे धार्मिक मान्यता अनुसार जो भी लोग नवरात्रि के दौरान व्रत उपवास कर देवी दुर्गा की भक्ति करते है उन्हें विशेषकर नौ दिनों तक प्याज, लहसुन या अन्य किसी भी तरह की तामसिक चीजों से परहेज करना चाहिए. इस दौरान सात्विक भोजन ही ग्रहण करना चाहिए इससे व्रत उपवास व पूजा का पूर्ण फल प्राप्त होता है.

घर को खाली ना छोड़े शास्त्रों के अनुसार ऐसी मान्यता है की नवरात्रि के दौरान घर को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए. बहुत से लोग नवरात्रो के नौ दिनों में न सिर्फ व्रत रखते है बल्कि अपने घर में कलश स्थापना, अखंड जोत और माता की चौकी का आयोजन भी करते है ऐसे में घर को खाली छोड़कर बाहर नहीं जाना चाहिए बल्कि अखंड जोत, माता की चौकी की देखरेख के लिए किसी ना किसी को घर में रहना चाहिए.

घर में अशांति ना होने दे ज्योतिष अनुसार माँ दुर्गा की भक्ति का यह पर्व शांति, भक्ति और सद्भावना की प्रेरणा देता है इसीलिए हम सभी को ये कोशिश करनी चाहिए की नवरात्रि के इन नौ दिनों तक घर का वातावरण शांत और भक्तिमय बनाये रखना चाहिए. इस दौरान घर में किसी भी तरह की अशांति या कलह नहीं करना चाहिए.
बाल, नाखून, दाढ़ी ना बनाये

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नवरात्रि के इन 9 दिनों में किसी को भी बाल, नाखून या दाढ़ी मूछ नहीं बनवानी चाहिए. शास्त्रों में यह कार्य पूजा पाठ के दौरान वर्जित बताये गए है.

द्वार पर आये व्यक्ति को खाली ना लौटाए Shardiya Navratri 2022 Dates Time ऐसी मान्यता है की अगर नवरात्रि के इन 9 दिनों में कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति या कोई भिक्षु आपके द्वार पर आये तो उसे खाली हाथ नहीं लौटना चाहिए जो भी आपकी सामर्थ्य या श्रद्धा हो उसी के अनुसार कुछ न कुछ दान करना शुभ होता है.

किसी का भी अपमान ना करे 
हर किसी का सम्मान करना व्यक्ति का एक अच्छा गुण माना जाता है. मान्यता है की नवरात्रि के दौरान बढे-बूढ़े, विशेषकर कन्याओ या किसी अन्य का अपमान नहीं करना चाहिए. नवरात्री में कन्या पूजन का विशेष महत्व है कन्याओ को माँ दुर्गा का रूप माना जाता है इसीलिए इन नियमो का पालन करने से भक्तो की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है.

चमड़े का इस्तेमाल न करे धार्मिक मान्यता अनुसार पूजा-पाठ के कार्यो में चमड़े व चमड़े से बनी चीजों का प्रयोग वर्जित माना गया है. नवरात्रि के इन 9 दिनों में इस बात का ध्यान रखना चाहिए माँ की पूजा के समय चमड़े या चमड़े से बानी चीजों का प्रयोग करने से बचे.

ब्र‍ह्मचर्य का पालन करे शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि के इन 9 दिनों तक व्रत करने वाले जातक को पूर्ण रूप से ब्र‍ह्मचर्य का पालन करना चाहिए। इसके साथ ही अपने व्‍यवहार में क्षमा, उदारता और उत्‍साह का भाव रखना चाहिए। व्रत करने जातक को हमेशा काम, क्रोध, लोभ और मोह से दूर ही रहना चाहिए।

No comments