Breaking News

जब सचिन की बदोलत दादा ने खेली थी 6 घंटो की यादगार पारी, तो दोस्ती बन गई मिसाल

sachin-tendulkar-and-sourav-ganguly-friendship-story

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान कप्तान सौरव गांगुली ने क्रिकेट की दुनिया में कई रिकॉर्ड अपने नाम किये है. आज भी उनके द्वारा खेली गई यादगार परियो को कोई भी भूल नहीं पाया है. जिस तरह दादा की यादगार परिया हमें याद है उसी तरह हर कोई सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली की दोस्ती से भी अच्छी तरह वाकिफ है.

जैसा की हम सभी जानते है की सौरव गांगुली और सचिन तेंदुलकर की दोस्ती अंडर-16 क्रिकेट के दिनों में हुई थी. उनकी यह दोस्ती आज तक बरकरार है. आज भी दादा और तेंदुलकर की दोस्ती के कई किस्से काफी मशहूर है.

कुछ किस्से आज भी ऐसे है जिनके बारे में बहुत कम व्यक्ति जानते है. वैसे तो दादा अब तक कई किसो की जानकारी अपने फेन्स को दे चुके है.

एक बार फिर उन्होंने अपनी दोस्ती की एक यादगार बात का जिक्र करते हुए बताया की जब वह अपने पहले टेस्ट में थे तो मैच के टी ब्रेक के समय वह क्रीज पर 100 रन बना कर खेल रहे थे. लेकीन मैच के दौरान ही उनके बेट के हेंडल में दरार आ गई थी.

दादा अपने उसी बेट से आगे भी खेलना चाहते तजे क्यों की उस बेट से उन्होंने अच्छे रन बनाये थे. और वह बेट बदलना नहीं चाहते थे. मैच के दौरान टी-ब्रेक महज 15 मिनट का था. इसके लिए वह अपने बल्ले को टेप से बांधने लग गए. यह सब देखते हुए सचिन उनके पास आये और कहने लगे की तुम आराम से चाय पिलो. में तुम्हारा बल्ला सही कर देता हु. क्यों की तुम्हे अभी जा कर खेलना है.

सौरव गांगुली को भारतीय क्रिकेट टीम का महान कप्तानों में से एक माना जाता है. गांगुली ने अपनी नई किताब अ सेंचुरी इज नॉट इनफ में इस तरह के कई किस्सों का जिक्र किया है.

धोनी को लेकर खुलासा

सौरव गांगुली ने एमइस धोनी को लेकर भी एक रोचक खुलासा किया है. उनके बताये अनुसार काश वर्ल्ड कप में धोनी मेरी टीम में शामिल होते. 2003 वर्ल्ड कप के दौरान वह टिकट कलेक्टर के पद पर थे.

No comments