Breaking News

IPS Story: UPSC एग्जाम से पहले हो गया एक्सीडेंट, मां करती थीं रोटी बेलने का काम, किचन में पढ़ाई कर बने अफसर

IPS Story: UPSC एग्जाम से पहले हो गया एक्सीडेंट, मां करती थीं रोटी बेलने का काम, किचन में पढ़ाई कर बने अफसर

अगर इरादा पक्का कर लिया जाए तो फिर सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है. आज हम बार कर रहे हैं 22 साल की उम्र में आईपीएस अफसर बनने वाले सफीन हसन की . गुजरात के रहने वाले 22 साल के सफीन हसन ने यूपीएससी की परीक्षा 570वीं रैंक के साथ पास की थी. वह साल था 2017, उसके बाद आईपीएस के लिए उनकी ट्रेनिंग शुरू हुई. वे गुजरात कैडर से आईपीएस की ट्रेनिंग के लिए हैदराबाद गए. ट्रेनिंग पूरी हुई तो गुजरात में जामनगर जिले से पुलिस उपाधीक्षक का पदभार मिला.

हसन के मुताबिक जब पढ़ाई के लिए पैसे कम पड़ने लगे तो मां ने रेस्‍टोरेंट व शादियों में रोटी बेलने का काम किया. वे पिता के साथ हीरे की एक यूनिट में थीं, हालांकि कुछ सालों बाद माता-पिता दोनों की वो नौकरी चली गई. फिर, जैसे-तैसे घर का खर्च चलाया. हमें कई रात खाली पेट भी सोना पड़ा. यूपीएससी का पहले अटेंप्ट देते वक्त एक्सीडेंट हो गया था. बावजूद इसके साल 2017 यूपीएससी एग्जाम में 570रैंक हासिल कर की और आईपीएस का सफर तय किया.

"हीरा यूनिट में नौकरी खोने के बाद हसन की मां जहां रोटी बेलने का काम करती थीं, वहीं, पिता ने इलेक्ट्रिशियन का काम शुरू कर लिया. वो जाड़ों में अंडे और चाय का ठेला भी लगाते थे. मैं अपनी मां को सर्दियों में भी पसीने से भीगा हुआ देखता था. किचन में पढ़ाई करता था."

हसन की शुरुआती पढ़ाई उत्‍तर गुजरात बनासकांठा के पालनपुर तहसील के छोटे से गांव कणोदर में पूरी हुई थी. प्राथ‍मिक शिक्षा के बाद वह इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए सूरत आए. स्कूल की पढ़ाई के बाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग (एनआईटी) में दाखिला लिया था.

No comments