Breaking News

Himachal Pradesh Election Result: हिमाचल प्रदेश में जारी रहेगी रवायत या बीजेपी बनाएगी रिकॉर्ड, यहां जानें Results

Himachal Pradesh Election Result: हिमाचल प्रदेश में जारी रहेगी रवायत या बीजेपी बनाएगी रिकॉर्ड, यहां जानें Results

Himachal Pradesh Assembly Election Result 2022 News: हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के परिणाम/रुझान थोड़ी देर में आने शुरू हो जाएंगे। राज्य की 68 विधानसभा सीटे हैं। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव की नवैयत ऐसी रही है कि कोई पार्टी लगातार दो बार सत्ता नहीं पा सकी है। लेकिन इस चुनाव में न सिर्फ भाजपा (BJP) और कांग्रेस (Congress) ने बल्कि आप ने भी अपनी पूरी ताकत झोंकी थी।

Himachal Pradesh Vidhan Sabha Chunav Result 2022: मतगणना स्थल पर सुरक्षाी के पुख्ता इंतजाम

मतगणना के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए हैं। बिना पहचान पत्र के किसी को मतगणना स्थल के अंदर प्रवेश की अनुमति नहीं है।
Himachal Pradesh Vidhan Sabha Chunav Result 2022: हिमाचल में जारी रहेगा रिवाज?

साल 1985 से ही हिमाचल प्रदेश में ऐसी रवायत रही है कि यहां हर पांच साल में सत्ता बदल जाती है। इसी रिवाज के आधार पर कांग्रेस को उम्मीद है कि उसकी वापसी होगी। वहीं बीजेपी राज्य में दोबारा सरकार बनाकर नया रिकॉर्ड बनाना चाह रही है।
Himachal Pradesh Vidhan Sabha Chunav Result 2022- इन दिग्गजों की साख दांव पर

इस चुनाव में हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की राजनीति के कई दिग्गजों की साख दांव पर लगी है। राज्य के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (Jairam Thakur), पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह (Vikramaditya Singh) और भाजपा के पूर्व अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती मैदान में हैं।

भाजपा नेता और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सराज विधानसभा से चुनाव लड़ा था। इनका मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी चेतराम (Chetram Thakur) से है। कांग्रेस नेता विक्रमादित्य सिंह ने शिमला ग्रामीण विधानसभा सीट से पर्चा भरा था। इनका मुकाबला भाजपा के रवि मेहता से है। बता दें विक्रमादित्य सिंह पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के बेटे हैं।

पिछले चुनाव में अपनी सीट हार जाने वाले भाजपा के पूर्व अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ऊना से चुनाव लड़े थे। इनका मुकाबला पिछली बार की तरह ही इस बार भी कांग्रेस के सतपाल रायजादा से था। सत्ती लगातार दो बार भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं। 2017 का विधानसभा चुनाव भी पार्टी ने सत्ती की अध्यक्षता में ही लड़ा था। तब भाजपा तो 44 सीट जीतकर सरकार बनाने में कामयाब रही थी लेकिन सत्ती अपनी सीट नहीं बचा सके थे।
एग्जिट पोल- बदल सकता है ट्रेंड

एग्जिट पोल के आंकड़ों में भाजपा की सरकार बनते दिखाया गया था। हालांकि यह हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के ट्रेंड के विपरीत है।

No comments