Breaking News

IND Vs BAN- मैच और सीरीज भले हारी टीम इंडिया लेकिन दिल जीत गए चोटिल Sharma ji

IND Vs BAN- मैच और सीरीज भले हारी टीम इंडिया लेकिन दिल जीत गए चोटिल Sharma ji

बांग्लादेश दौरे पर गई टीम इंडिया लगातार 2 वनडे मैच हारकर 3 मैचों की सीरीज गंवा बैठी है. लेकिन आज की रात रोहित शर्मा की रात नहीं थी. रोहित मैच की शुरुआत में ही वह फील्डिंग करते हुए चोटिल हो गए. उनके हाथ से खून निकल रहा था और उन्हें स्कैन के लिए अस्पताल ले जाया गया. हालांकि राहत रही कि भले ही रोहित शर्मा का अंगूठ डिस्लोकेट हो गया और मांस फटने के चलते कुछ टांके भी लगाने पड़े लेकिन यह फ्रैक्चर नहीं था. पर इसके चलते रोहित के बाएं हाथ के अंगूठे पर मोटा बेंडेंज बंधा था और वह उम्मीद कर रहे थे कि आज बैटिंग पर उतरना न ही पड़े तो बेहतर.

लेकिन श्रेयस अय्यर (82) और अक्षर पटेल (56) ने एक वक्त भारतीय टीम को जीत की पटरी पर ला दिया था. लेकिन जैसे ही अय्यर आउट हुए तो टीम फिर लड़खड़ा गई. अय्यर और पटेल के बीच 5वें विकेट के लिए हुए 107 रन की साझेदारी को मेहदी हसन मिराज ने ही तोड़ा और इसके बाद एक बार फिर ‘तू चल.. मैं आया..’ का सिलसिला चल निकला. 7 विकेट गिरने के बाद आखिरकार रोहित शर्मा को मैदान पर उतरना ही पड़ा.

रोहित क्रीज पर मायूस दिख रहे थे. उनकी आंखों में चोट का दर्द साफ दिख रहा था और इसलिए शुरुआत में वह दीपक चाहर और मोहम्मद सिराज से ज्यादा बात भी नहीं कर रहे थे. लेकिन फिर धीरे-धीरे उन्होंने जरूरी रन रेट को ध्यान में रखते हुए बल्ला घुमाना शुरू किया और छक्के और चौकों में बात करना शुरू कर दी.

अंतिम 3 ओवर में भारत को 40 रन ही चाहिए थे लेकिन मोहम्मद सिराज 47वें ओवर में एक भी बार रोहित को स्ट्राइक नहीं दे पाए. पूरा ओवर मेडिन चला गया. 49वें ओवर में रोहित ने एक वाइड और बाय की मदद से भले 20 रन बटौरे लेकिन यहां उन्हें दो-दो बार जीवनदान भी मिला.

अब आखिरी ओवर में 20 रन की ही दरकार थी. रोहित ने पहली बॉल मिस करने के बाद लगातार 2 चौके जड़ने के बाद एक गेंद फिर मिस कर दी. हालांकि अगली ही गेंद पर छक्का जड़कर उन्होंने मैच को काबू में लाने की कोशिश की.

अंतिम बॉल पर छक्के की दरकार थी लेकिन मुस्ताफिजुर रहमान ने परफैक्ट यॉर्कर फेंककर रोहित से यह गेंद डॉट निकाल दी और बांग्लादेश ने यह मैच और सीरीज दोनों अपने नाम कर ली. लेकिन अगर रोहित आज चोटिल न होते तो निश्चित ही इस मैच का परिणाम भारत के हक में ही होता.

No comments